Breaking News

रक्षाबन्‍धन पर भगवान करेंगे शिव ताण्‍डव, भाई बहन रहें सावधान

सनातन धर्म में त्रिदेव अर्थात ब्रह्मा विष्णु व महेश को सबसे प्रमुख माना गया है। यदि तीन देवों में से कोई एक भी अनुपस्थित हो तो कोई भी शुभ कार्य सम्पन्न नहीं किया जाता। हर शुभ कार्य में त्रिदेव का ध्यान किया जाता है। सनातन धर्म की मान्यतानुसार भद्रा काल में भगवान शंकर तांडव करते हैं। तांडव के दौरान शिव के क्रोधि‍त होने से ही कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता। कोई भी बहन नहीं चाहेगी कि उसकी किसी भूल के चलते उसके भाई का अहित हो या उसे कोई नुकसान हो। यही वजह है कि भद्रा में बहने अपने भाईयों को राखी नहीं बांधती। मान्यतानुसार शूर्पणखा ने अपने भाई रावण को भद्रा काल में राखी बांधी थी और इसी कारण रावण का विनाश हुआ था। अतः भद्रा में रक्षा सूत्र नहीं बांधा जाता है।


कैसे हो यह रक्षा बंधन शुभ 
शिव के तांडव को शांत करने हेतु राखी बांधने से पूर्व शिवलिंग पर पंचामृत से अभिषेक करें।

राखी बांधने के बाद सूतक काल में भाई-बहन एक दूसरे पर से कुछ सिक्के वारकर भिखारी को दान करें।

यम गंडक काल से मुक्ति के लिए राखी बांधने से पहले शिवलिंग पर मौली बांधें।

अपने परिवार की रक्षा के लिए राखी बांधने से पहले शनि मंदिर में तिल का तेल चढ़ाएं।

सुख-समृद्धि के लिए राखी बांधने से पहले श्री कृष्ण के मंदिर जाकर उन्हें रक्षा सूत्र बांधें।

-----
लिंक शेयर करें