Breaking News

बिजेन्‍दर ने नाक आउट दौर में चीनी मुक्‍केबाज जुल्पिकार को हराया

मुंबई: भारत और चीन में चल रहे राजनीतिक तनाव के बीच नॉकआउट किंग विजेंदर सिंह ने चीन के नंबर एक मुक्केबाज जुल्पिकार मैमाताली को शनिवार को 10 राउंड के बेहद संघर्षपूर्ण मुकाबले में हराकर अपना डब्ल्यूबीओ एशिया पैसिफिक सुपर मिडलवेट खिताब बरकरार रखा और साथ ही चीनी मुक्केबाज का डब्ल्यूबीओ ओरियंटल सुपरमिडलवेट खिताब छीन लिया।

विजेंदर ने अपना अपराजेय क्रम बरकरार रखा
बैटलग्राउंड एशिया के नाम से हुए इस मुकाबले में विजेंदर ने जीत हासिल कर अपना अपराजेय क्रम बरकरार रखा। विजेंदर की यह लगातार नौंवी जीत है और इस जीत के साथ उन्होंने चीन की दीवार को तोड़ डाला। बैटलग्राउंड एशिया में भारत के दो अनुभवी मुक्केबाजों ओलंपियन अखिल कुमार तथा जितेंद्र कुमार ने भी अपना प्रो मुक्केबाजी पदार्पण किया और जीत हासिल की।

नौ मुकाबलों में सात मैच नॉकआउट जीते
विजेंदर ने अपने नौ मुकाबलों में सात नॉकआउट जीते हैं जबकि जुल्पिकार को प्रो मुक्केबाजी में नौ मुकाबलों में पहली हार का सामना करना पड़ा। भारतीय मुक्केबाज ने 10 राउंड का यह मुकाबला जजों के सर्वसम्मत फैसले से जीता। विजेंदर के पक्ष में 96-93, 95-94, 95-94 का स्कोर रहा। बॉलीवुड केे महानायक अमिताभ बच्चन, उनके बेटे अभिषेक बच्चन, बैडमैन गुलशन ग्रोवर और कई अन्य हस्तियां इस मुकाबले को देखने के लिए मौजूद थीं। मुकाबला काफी तगड़ा रहा और दोनों ही मुक्केबाजों ने एक दूसरे पर कड़े प्रहार किए।

विजेंदर के पंच काफी जोरदार रहे
विजेंदर के पंच काफी जोरदार रहे हालांकि दो-तीन मौकों पर वह रिंग में गिरे भी लेेकिन हर बार उठकर उन्होंने जुल्पिकार के चेहरे पर पंच लगाए। मुकाबले के नौवें राउंड में जुल्पिकार ने विजेंदर के पेट से नीचे के हिस्से पर प्रहार कर दिया जिस पर रेफरी ने उन्हें चेतावनी भी दी। इस कारण जुल्पिकार के अंक कटे जो बाद में उनपर भारी पड़े। 10वें राउंड में दोनों मुक्केबाज अपनी थकान के बावजूद एक दूसरे से भिड़ते रहे।10वां राउंड समाप्त होने के बाद विजेंदर को विजेता घोषित किया गया।

मुकाबले के बाद विजेंदर का बयान
मुकाबले के बाद विजेंदर ने कहा कि मुझे मुकाबले के 10वें राउंड तक जाने की उम्मीद नहीं थी। मुझे लगा कि यह मुकाबला अधिकतम पांच-छह राउंड तक चलेगा इसलिए मैं अपनी रणनीति के अनुसार नहीं लड़ पाया। मैं चीन को बताना चाहता हूं कि हमारी सीमा में न घुसे। यह मुकाबला शांति के लिए है। मैं जुल्पिकार को उनकी बेल्ट वापस लौटाता हूं यह शांति के लिए संदेश है। दोनों मुक्केबाजों के पास अब अपनी-अपनी बेल्ट रहेगी।

-----
लिंक शेयर करें