Breaking News

खलीलाबाद के व्‍यवसाई आशीष छापडि़या गोरखपुर में जाकर बांट रहे बाढ़ पीडि़तों का दर्द

– अपनी टीम के साथ मिलकर लगे हैं बाढ़ पीडि़तों तक राहत सामग्री पहुंचाने में

संतकबीरनगर। न्‍यूज केबीएन

खलीलाबाद के प्रतिष्ठित व्‍यवसाई आशीष छापडि़या गोरखपुर में आई बाढ़ से प्रभावित लोगों का दर्द बांटने में जुटे हुए हैं। वे अपनी टीम के साथ जाते हैं और बाढ़ पीडि़तों को अपनी निगरानी में रोजमर्रा की आवश्‍यक चीजों का वितरण करते हैं।

Art of Living, Aashish chhapriya, gorakhpur, badh, rahat kary

गोरखपुर के मानीराम क्षेत्र में बाढ़ पीडि़त को लंच पैकेट देते हुए खलीलाबाद के व्‍यवसाई आशीष छापडि़या

कोई नहीं मिला तो खुद ही लादने के लिए उठा लिया राहत सामग्री से भरा बोरा

समाज सेवा के लिए हमेशा तत्‍पर रहने वाले जिले के प्रतिष्ठित सूत व्‍यवसाई आशीष छापडि़या व्‍यवसाय के साथ समाजसेवा के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। वे समाजसेवा में निरन्‍तर रत रहने वाली संस्‍था एक नई आशा के साथ ही साथ आर्ट आफ लिविंग के प्रदेश मीडिया प्रभारी भी हैं। अपनी इन दोनों संस्‍थाओं के सहयोग से आशीष छापडि़या निरन्‍तर बाढ़ पीडि़तों की सेवा मे लगे हुए हैं। पिछले कई दिनों से वे अपना व्‍यवसाय छोड़कर बाढ़ पीडि़तों तक आवश्‍यक सामग्री पहुंचाने का काम कर रहे हैं। उनकी पूरी टीम के सदस्‍य उनके नेतृत्‍व में बेहतर कार्य कर रहे हैं। वे उन इलाकों को चिन्हित करते हैं जहां पर कोई आवश्‍यक सहायता न पहुंची हो। इसके बाद पैकेटों में बन्‍द राहत सहायता सामग्री को लेकर क्षेत्र में जाते हैं और वितरित करवाते हैं। इसकी निगरानी वे खुद करते हैं ताकि कहीं से कोई दिक्‍कत न हो।

मानवता की सेवा ही हर व्‍यक्ति का धर्म : आशीष छापडि़या

व्‍यवसाई आशीष छापडि़या का कहना है कि मानवता की सेवा करना ही सबका धर्म है। बाढ़ पीडि़तों को इस समय तत्‍काल सहायता की जरुरत है। ऐसे में हम सभी का दायित्‍व बढ़ जाता है कि हम उनकी पीड़ा को अपनी पीड़ा समझते हुए बेहतर कार्य करें। ताकि उन्‍हें राहत मिल सके।

बाढ़ समाप्‍त होने के बाद लगवाएंगे स्‍वास्‍थ्‍य शिविर

आशीष छापडि़या कहते हैं कि बाढ़ समाप्‍त होने के बाद बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में बीमारियों का प्रकोप फैलने की संभावना है। इसके लिए अभी से स्‍वास्‍थ्‍य शिविर लगवाने की तैयारियां हो गई हैं। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में ब्‍लीचिंग पाउडर के छिड़काव की भी व्‍यवस्‍था कराई जा रही है। साथ ही हर क्षेत्र में स्‍वास्‍थ्‍य शिविर लगाए जाएंगे। इसके साथ ही साथ स‍चल चिकित्‍सा टीमों को भी तैयार किया जा रहा है। ताकि बाढ़ समाप्‍त होने के बाद होने वाली परेशानियों से निबटा जा सके।

-----
लिंक शेयर करें