Breaking News

गांव के विकास व पारदर्शिता के लिए प्रयत्‍नशील हैं युवा ग्राम प्रधान मारकण्‍डेय सिंह

– हर महीने गांव के लोगों के साथ करते हैं बैठक

– ले‍ते हैं लोगों से गांव की समस्‍याओं के बारे में राय

कुशीनगर। न्‍यूज केबीएन

यूं तो जिले में बहुत से ग्राम प्रधान हैं और बेहतर कार्य कर रहे हैं। लेकिन जिले के मोतीचक विकास खण्‍ड के महुई ग्रामसभा के युवा प्रधान मारकण्‍डेय सिंह गांव के पारदर्शी विकास के लिए निरन्‍तर प्रयत्‍नशील रहते हैं। हर महीने गांव के लोगों के साथ खुली बैठक करते हैं और लोगों से गांव की समस्‍याओं के बारे में राय लेते हैं। ताकि सब कुछ लोगों के सामने दिखे।

ग्राम सभा महुई में पिछले 25 साल से एक ही परिवार के लोग ग्राम प्रधान के पद पर काबिज रहे। उनके द्वारा गांव के विकास के लिए कभी कोई पहल ही नहीं की गई। गुपचुप योजनाएं बनाई जाती थीं। तमाम योजनाएं बनीं लेकिन ये कागजों में ही पूरी हो गई। स्थिति तो यह रही की कभी गांव की खुली बैठके ही नहीं हुई। अपात्रों को योजनाओं का लाभ मिला। इसे लेकर गांव के लोगों ने गांव के ही युवा मारकण्‍डेय सिंह को ग्राम प्रधान बनाया। मारकण्‍डेय सिंह ने जो वायदे किए थे उन पर वे खरे भी उतरने का प्रयास कर रहे हैं। गांव के पोखरे को अतिक्रमण से मुक्‍त कराया। गांव में परुआ के अवसर पर लगने वाले मेले को विस्‍तार दिया। साथ ही साथ गांव की इन्‍ट्री रोड से लेकर अन्‍य खाली स्‍थानो पर वृहद वृक्षारोपण भी कराया। गांव के हर बिजली पोल पर एलईडी लाइटें लगवाई।

यह भी पढ़ें: गांव को स्‍वच्‍छ बनाने के लिए पोखरे में उतरे कुशीनगर के महुई गांव के प्रधान मारकण्‍डेय सिंह

गांव के आवास के पात्र लाभार्थियों की सूची उन्‍होने गांव के स्‍कूल पर पेण्‍ट से लिखवा दी है। यही नहीं अपना, सेक्रेटरी का और गांव के सफाई कर्मी का मोबाइल फोन नं भी वहीं पर लिखवा दिया है। ताकि किसी को जरुरत हो तो वह तुरन्‍त ही उनसे सम्‍पर्क करके अपनी समस्‍या का निदान करा सके। इस कार्य में उनके सदस्‍यगणों और गांव के संभ्रान्‍त लोगों के द्वारा भी निरन्‍तर सहयोग दिया जाता है।

सेक्रेटरी को ढूंढने के लिए नहीं घूमना पड़ता लोगों को

महुई गांव के लोगों को सेक्रेटरी को ढूंढने के लिए अब घूमना नहीं पड़ता है। ग्राम प्रधान मारकण्‍डेय सिंह ने सेक्रेटरी के लिए रोस्‍टर तय कर दिया है। इस रोस्‍टर के हिसाब से ही अब सेक्रेटरी शनिवार को 10 बजे आकर गांव के प्राथमिक स्‍कूल पर आ जाते हैं। उसी परिसर में सुबह 10 बजे से 12 बजे तक बैठे रहते हैं। गांव के लोगों को कुटुम्‍ब रजिस्‍टर आदि की नकल व अन्‍य जानकारियां लेनी होती है वे इस समय जाते हैं और उन्‍हें सारी जानकारियां मिल जाती हैं।

-----
लिंक शेयर करें