Breaking News

जूट के झोले बांटकर सूर्या ग्रुप ने लिया पालिथिन मुक्‍त भारत का संकल्‍प

  • सदर विधायक जय चौबे ने दिलाया बच्‍चों को पालिथिन मुक्‍त भारत बनाने का संकल्‍प
  • स्‍वच्‍छता का संकल्‍प ही होगी बापू व शास्‍त्री को सच्‍ची श्रद्धान्‍जलि – जय चौबे

संतकबीरनगर। 2 अक्‍टूबर 2012

शिक्षा को नित नया आयाम देने वाले सूर्या ग्रुप ने बच्‍चों को जूट के झोले बांटकर पालिथिन मुक्‍त भारत बनाने का संकल्‍प लिया। इस दौरान सदर विधायक दिग्विजय नारायण चतुर्वेदी उर्फ जय चौबे ने बच्‍चों को पालिथिन मुक्‍त स्‍वच्‍छ भारत बनाने का संकल्‍प दिलाया। इस दौरान बच्‍चों को सम्‍बोधित करते हुए उन्‍होने कहा कि स्‍वच्‍छता का संकल्‍प ही बापू और शास्‍त्री को सच्‍ची श्रद्धान्‍जलि होगी।

सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी में जूट के झोले के साथ प्रसन्‍न मुद्रा में बच्‍चे तथा उपस्थित अतिथिगण

सूर्या इण्‍टरनेशनल सीनियर सेकेण्‍डरी स्‍कूल में पालिथिन मुक्‍त भारत बनाने के संकल्‍प को पूरा करने के लिए एकेडमी के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी व प्रबन्‍ध निदेशक श्रीमती सविता चतुर्वेदी के निर्देशन में मंगलवार को एकेडमी परिसर में देश में स्‍वच्‍छता का वातावरण पैदा करने के लिए बच्‍चों को जूट के झोले बांटे गए। सदर विधायक दिग्विजय नारायण चतुर्वेदी ने बच्चों को स्‍वच्‍छता का संकल्‍प दिलाते हुए कहा कि आज हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयन्ती मना रहे है। उन्होने भारत को एक निर्मल और स्वच्छ देश बनाने का सपना देखा था। सपने के सन्दर्भ में गांधी जी ने कहा था कि स्वच्छता स्वतंत्रता से भी ज्यादा जरूरी है क्योकि स्वच्छता ही स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन का एक अनिवार्य भाग है।

जूट के झोले के साथ नन्‍हे मुन्‍ने बच्‍चे

इसी क्रम में विद्यालय के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने अपने सम्बोधन मे कहा कि भारत देश अपने वैभव और संस्कृति के लिए जाना जाता है और देश की सफाई एकमात्र सफाई कर्मियों की जिम्मेदारी नही है इस मानसिकता को बदलना होगा। भौतिक, मानसिक व सामाजिक कल्याण के लिये लोगो में इसका एहसास होना बेहद आवश्यक है। ये सही मायनों मे सामाजिक और आर्थिक स्थिति का बढ़ावा देने के लिए है जो हर तरफ स्वच्छता लाने से शुरू किया जा सकता है। इस दौरान प्रबन्‍ध निदेशक श्रीमती सविता चतुर्वेदी ने कहा कि बच्‍चे पालिथिन मुक्‍त भारत बनाकर देश को स्‍वच्‍छ रखने का संकल्‍प लें। इसके लिए यह आवश्‍यक है कि हम प्‍लास्टिक का बहिष्‍कार करें। इस अवसर पर एकेडमी के प्रधानाचार्य रविनेश श्रीवास्‍तव, शुभी देवी महिला डिग्री कालेज के प्राचार्य चिन्‍तामणि उपाध्‍याय, विधायक प्रतिनिधि अवधेश सिंह, एचआरपीजी कालेज के छात्र संघ अध्‍यक्ष सौरभ सिंह, एकेडमी के शिक्षक अशोक चौबे, नितेश द्विवेदी, प्रशान्‍त पाण्‍डेय, बलराम उपाध्‍याय, तपस्‍या रानी सिंह, नाजिया परवीन, गरिमा के साथ ही साथ अन्‍य लोग उपस्थित थे।

बोले बच्‍चे – पापा को देंगे सब्‍जी के लिए ये झोले

सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी के बच्‍चे झोला पाकर काफी खुश दिखाई दिए। इस दौरान बच्‍चों ने कहा कि वे ये झोले अपने परिवार के लोगों को देंगे ताकि वे बाजार में सब्‍जी खरीदने के लिए जाएं तो इसी तरह के जूट के झोले लेकर जाएं। प्‍लास्टिक में कुछ भी न खरीदें। बच्‍चों ने कहा कि हम दुकानदारों को भी प्‍लास्टिक का उपयोग नहीं करने के लिए प्रेरित करेंगे। यह प्रदूषण पैदा करता है। साथ ही साथ इससे हमारा भारत स्‍वच्‍छ नहीं होता है बल्कि गन्‍दा होता है। 

प्‍लास्टिक मुक्‍त भारत का संकल्‍प लेते हुए बच्‍चे तथा शिक्षक व अतिथिगण

-----
लिंक शेयर करें