Breaking News

सूर्या एकेडमी के वार्षिक क्रीड़ा समारोह के दूसरे दिन बांटे गए 500 से अधिक पदक व प्रशस्ति पत्र ( विजय गुप्‍ता की रिपोर्ट )

  • प्‍लेवे से लेकर चौथी कक्षा के छात्र छात्राओं को दिया गया पदक
  • बालीवाल संघ के अध्यक्ष राकेश चतुर्वेदी ने वितरित किए पदक

संतकबीरनगर, न्‍यूज केबीएन ।

सूर्या इण्‍टरनेशनल सीनियर सकेण्‍डरी स्‍कूल के त्रिदिवसीय वार्षिक क्रीड़ा समारोह के दूसरे दिन प्‍लेवे से लेकर चौथी कक्षाओं तक के छात्र छात्राओं की प्रतियोगिताओं का समापन हो गया। बालीवाल संघ के अध्‍यक्ष राकेश चतुर्वेदी ने के साथ ही एकेडमी के निदेशक तथा प्रबन्‍ध निदेशक ने बच्‍चों को ये प्रशस्ति पत्र व पदक दिए।

अतिथियों के सामने अपने पदकों के साथ छात्र छात्राएं

जिला मुख्‍यालय पर स्थित सूर्या इण्‍टरनेशनल सीनियर सेकेण्‍डरी स्‍कूल के त्रिदिवसीय वार्षिक क्रीड़ा समारोह के दूसरे दिन प्‍लेवे से लेकर चौथी कक्षाओं तक के छात्र छात्राओं के प्रतियोगिताओं का समापन हो गया। इसके बाद उनके कक्षाध्‍यापकों ने प्रतियोगिताओं के अनुसार उनके प्रमाण पत्र और पदक तैयार किए। बाद में कक्षा व वर्गवार दौड़, जलेबी दौड़, मेढ़क दौड़, संतरा दौड़, कुर्सी दौड़, बाल बैलेंस, चम्‍मच दौड़ के साथ ही अन्‍य प्रतियोगिताओं के प्रमाण पत्र उन्‍हें वितरित किए गए। यह पदक बालीवाल संघ के अध्‍यक्ष राकेश चतुर्वेदी, सूर्या एकेडमी के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी तथा एकेडमी की प्रबन्‍ध निदेशक श्रीमती सविता चतुर्वेदी के द्वारा प्रदान किया गया। इस दौरान अतिथियों ने उनका उत्‍साहवर्धन किया। पदक वितरण कार्यक्रम में खुर्शीद फातिमा, तपस्‍या रानी सिंह, रिया जायसवाल, रिचा, नेहा, नाजिया, अर्चना सिंह, महिमा पाण्‍डेय, गरिमा उपाध्‍याय समेत अन्‍य शिक्षक शिक्षिकाओं ने महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई।

प्रशस्ति पत्र पर हस्‍ताक्षर करने में प्रधानाचार्य के छूटे पसीने

प्रतियोगिता के दूसरे दिन 500 से अधिक खेल प्रमाण पत्रों पर हस्‍ताक्षर करने में प्रधानचार्य रविनेश श्रीवास्‍तव के पसीने ही छूट गए। उनके पास हस्‍ताक्षर करवाने के लिए लोगों की भीड़ जमा थी। स्थिति यह थी कि सभी कक्षाओं के कक्षाध्‍यापकों के साथ ही छात्र छात्राएं भी अपने प्रमाण पत्रों पर हस्‍ताक्षर करवाते हुए दिखाई दिए।

देखें पुरस्‍कार वितरण की अन्‍य तस्‍वीरें…….

प्रशस्ति पत्रों पर हस्‍ताक्षर करते हुए प्रधानाचार्य रविनेश श्रीवास्‍तव

 

 

 

 

 

 

 

तीन पदक मिले तो खुशी का ठिकाना नहीं रहा इस बच्‍ची का

 

-----
लिंक शेयर करें