Breaking News

पायल ने दाव पेंच लगाकर सविता को दिखाया आसमान ( देवीलाल गुप्‍त की रिपोर्ट )

– दंगल में महिला-पुरुष पहलवानों के दाव पेंच से रोमाचिंत रहे दर्शक
-राइजिंग स्टार इंटरनेशनल एकेडमी कटका बसुलहिया में आयोजित हुई प्रतियोगिता

नाथनगर, संतकबीरनगर।

राइजिंग स्टार इंटरनेशनल एकेडमी कटका बसुलहिया के परिसर में रविवार को दंगल प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। इसमे करीब दो दर्जन से अधिक पहलवानों के जोडो ने जोर आजमाईश किया। महिला पहलवान की दाव पेंच भरी कुश्ती काफी आकर्षण की केंद्र रही। प्रदेश के कई जिलों के आखडा के पहलवानों ने हिस्सा लेकर दमखम दिखाया। प्रतियोगिता में पायल ने सविता को तो ज्योति ने आस्था को पटखनी देकर कला का किया प्रदर्शन।

कुश्‍ती प्रतियोगिता का उदघाटन करते हुए विधायक जय चौबे

प्रतियोगिता के मुख्य अतिथि सदर विधायक जय चौबे ने फीता काटकर तथा दो धुरन्धर पहलवानों से हाथ मिलाकर शुभारम्भ किया। पहली कुश्ती सचिन कुमार व अभिषेक के बीच खेली गई। निर्धारित चार मिनट के समय सीमा के भीतर ही अभिषेक ने सचिन को पटखनी दे दी। मो0 नसीम व आदर्श की कुश्ती बराबरी पर छूटी। इसके बाद महिला पहलवान जब आखडा पर पहुंचे। तो दर्शक रोमांचित होकर उनके हर दांव पेंच पर तालिया बजाकर मनोबल बढ़ाया। महिला पहलवान सविता तथा पायल के बीच हुई। जिसमें चंद मिनट में ही पायल ने सविता को आसमान दिखा दिया। इसी तरह ज्योति व आस्था के बीच चली दंगल में एक दूसरे पर जोर आजमाइश करते हुए ज्योति ने अपनी रणनीति खेल से आस्था को पटखनी देकर जीत हासिल की। कुश्ती में दो दर्जन से अधिक पहलवानों ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता में नंदनीनगर, अयोध्या, गोरखपुर, खजनी, वाराणसी, अम्बेडकनगर, सिद्धार्थनगर सहित अन्य अखाड़ो के पहलवानों ने भाग लिया। दंगल में रेफरी के रूप में गंगा यादव, नागेंद्र अपनी जिम्मेदारी बेखूबी के साथ निर्वाहन कर रहे थे। संचालन पवन सिंह व उमेश राय ने किया। इस मौके पर आयोजन कमेटी के सदानंद सिंह, शैलेष सिंह, शैलेन्द्र सिंह, अश्वनी पाण्डेय, अंतर्राष्टीय पहलवान एवं यश भारती पुरस्कृत पन्नेलाल यादव, गोरखनाथ राय, नरेंद्र सिंह, शबिस्ता खान, वीर, मनीष, दीपक, संचित, फजील, नीलम, गिरिवर मिश्र मौजूद रहे।

पहलवानों का हाथ मिलवाते हुए अतिथिगण

कुश्ती में दिखती है भारतीय संस्कृति सभ्यता

कुश्ती प्रतियोगिता में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए सदर विधायक जय चौबे ने कहा कि कुश्ती हमारी प्राचीन विधा है। यह गांवो में आज भी अपने संघर्ष के दम पर मुकाम हासिल किए है। उन्होंने कहा कि इस कला में भारतीय संस्कृति व सभ्यता देखने को मिलती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार खेल व कुश्ती को बढ़ावा देने के प्रति संकल्पित होकर कार्य कर रही है। सदानंद सिंह ने कहा कि प्रोत्साहन मिले तो ग्रामीण क्षेत्र की प्रतिभाएं भी देश दुनिया मे अपना नाम रोशन कर सकती है। विद्यालय एमडी शैलेष सिंह ने कहा कि पारंपरिक खेलो को बढ़ावा दिया जाना जरूरी है। ताकि लुप्त हो रही खेल, कबड्डी, कुश्ती में खिलाड़ी अपनी प्रतिभा दिखा सके।

सविता और पायल का हाथ मिलवाते हुए अतिथिगण

-----
लिंक शेयर करें