Breaking News

कोरोना संक्रमण की आशंका हो तो कारगर है होम क्‍वैरेण्‍टाइन

–    विदेश से आए व्‍यक्तियों के सम्‍पर्क में आए लोगों को रखे होम क्‍वैरेण्‍टाइन में

–    स्‍वास्‍थ्‍य मन्‍त्रालय ने घर को होम क्‍वैरेण्‍टाइन बनाने के लिए जारी की गाइड लाइन

संतकबीरनगर, 18 मार्च 2020

कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए स्‍वास्‍थ्‍य मन्‍त्रालय ने कोरोना को लेकर संदिग्‍ध लोगों को होम क्‍वैरेण्‍टाइन ( घर में अलग ) करने की गाइड लाइन जारी की है। मन्‍त्रालय का कहना है कि अगर आपके परिवार का कोई व्‍यक्ति विदेश से आने वाले किसी व्‍यक्ति से किसी भी तरह से संपर्क में आया है तो एहतियात के तौर पर एक पखवाड़े तक अपने घर को होम क्‍वैरेण्‍टाइन (एकान्तवास) में बदल सकते हैं।

कोरोना के सम्‍बन्‍ध में बनाई गई रैपिड रिस्‍पांस टीम के प्रमुख डॉ ए के सिन्‍हा ने बताया कि क्वैरेंटाइन लोगों को इनफेक्शन से बचाने और इसे फैलने से रोकने की दिशा में काफी कारगर साबित हो रहा है। एक अधिकारी ने कहा कि जिस व्यक्ति में यह बीमारी फैलने की संभावना हो उसे यह बताना चाहिए कि अगर वह किसी भी तरह की लापरवाही करेगा और क्वैरेंटाइन प्रोटोकॉल को फॉलो नहीं करेगा तो उसके परिवार के किसी दूसरे सदस्य को भी इस बीमारी का खतरा हो सकता है। इससे ऐसे लोग ज्यादा सावधान हो जाएंगे।

क्या है होम क्वैरेंटाइन?

क्वैरेंटाइन, आइसोलेशन की तरह ही होता है यानी अलग करना। जहां आइसोलेशन में बीमार व्यक्तियों को स्वस्थ्य व्यक्तियों से अलग रखा जाता है वहीं, क्वैरेंटाइन में उन व्यक्तियों को अलग किया जाता है जो किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आए हों जिसे वह  संक्रामक बीमारी हुई हो और उनके भी बीमार होने का खतरा हो। होम क्वैरेंटाइन का मतलब है – घर में ही अलग रहना।

कैसे कर सकते हैं होम क्वैरेंटाइन?

कमरा हवादार होना चाहिए और उसमें अटैच्ड टॉयलेट और बाथरूम होना चाहिए, वह भी अपने घर में। अगर परिवार के किसी दूसरे सदस्य को भी उस कमरे में रहना पड़ रहा है तो वह हर वक्त उससे  कम से कम एक मीटर की दूरी बनाकर रहे।

बुजुर्ग, गर्भवती महिला, बच्‍चे बरतें सतर्कता

घर में ऐसे व्यक्ति को बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं, बच्चों और किसी दूसरी बीमारी से ग्रसित व्यक्ति से खासतौर पर दूर रहना चाहिए, क्योंकि इनमें वायरस जल्दी फैलने का खतरा ज्यादा होता है। भारत सरकार ने जो निर्देश जारी किए हैं उनके मुताबिक कोरोना वायरस पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आने वाले व्यक्ति को बच्चों से भी जरूरी दूरी बनाकर रखने के लिए कहा है।

क्‍या करें ऐसे व्‍यक्ति जो बाहर से आए हों

ऐसे व्यक्ति को कम से कम 14 दिनों के लिए किसी भी धार्मिक या सामाजिक सम्मेलन में नहीं शामिल होना चाहिए। इसके साथ ही किसी के साथ अपना खाना, पानी का गिलास , बर्तन, तौलिया, बिस्तर जैसी चीजें शेयर नहीं करनी चाहिए और हर वक्त मास्क पहनकर रहना चाहिए। यह भी ध्यान रखें कि रोगी/उनकी देखभाल करने वाले/ या उनके संपर्क में आने वाले लोग जो मास्क पहनें वह ब्लीच सल्यूशन से साफ किया हुआ हो।

किसको किया जा सकता है होम क्‍वैरेण्‍टाइन

होम क्‍वैरेण्‍टाइन ऐसे लोगों को किया जा सकता है जो किसी कोरोना रोगी के साथ एक ही घर में रह रहा हो। रोगी के सीधे संपर्क में आया हो। इसके साथ ही रोगी के आस-पास रहे या उसके साथ हवाई यात्रा की हो। इन लोगों को होम क्‍वैरेण्‍टाइन किया जा सकता है।

होम क्‍वैरेण्‍टाइन व्‍यक्ति के लिए यह हैं सावधानियां

घर के सभी व्यक्ति सुरक्षित रह सकें इसके लिए कोरोना वायरस प्रभावित  या रोगी के संपर्क में आने वाले व्यक्ति की देखभाल की जिम्मेदारी सिर्फ एक ही व्यक्ति को सौंपी जाए। वह व्यक्ति देखभाल करते समय मास्क, ग्लव्स पहने रहे। ऐसा व्यक्ति जिसे क्वैरेंटाइन किया गया हो किसी भी तरह से उससे शारीरिक संपर्क न करे, यहां तक कि उसके कपड़े भी न शेयर करे। बाहरी व्यक्तियों को उससे नहीं मिलने देना चाहिए। जिस व्यक्ति को क्वैरेंटाइन किया गया हो उसमें कोरोना वायरस का कोई लक्षण दिखे तो 14 दिन के लिए उसके आस-पास किसी भी दूसरे व्यक्ति को नहीं जाने देना चाहिए और अगले 14 दिन तक खास एहतियात बरतना चाहिए या तब तक जब तक रिपोर्ट निगेटिव नहीं आ जाती।

-----
लिंक शेयर करें