Breaking News

दानवीरों सहायता करते रहो, तुम्‍हारे हाथों को रोकने की साजिश है यह वीडियो

  • देश के दानवीरों को रोकने के लिए सेक्‍युलरों ने रची नई साजिश, जारी किया वीडियो
  • देश को अस्थिर और आर्थिक रुप से कमजोर करना चाहते हैं सेकुलर, लिबरल और कौमनष्‍ट

अरुण सिंह, संतकबीरनगर।

बन्‍धुओ, देश में कोरोना संकट है और देश बहुत ही विषम परिस्थितियों से जूझ रहा है। लाक डाउन के चलते स्थितियां खराब हो रही हैं। लेकिन हमारे किसानों की देन है कि वह एक रोटी खुद खाता है और दूसरी गरीबों को देने से परहेज नहीं करता। यही नहीं सनातन परम्‍परा से जुड़े हमारे दानवीर भी आम जनता के हितों की रक्षा के लिए सर्वस्‍व दान देने के लिए लालायित हैं और लोगों की सहायता करने के लिए आगे भी आ रहे हैं। सब कुछ काफी बेहतर तरीके से चल रहा है। लेकिन देश को अस्थिर और आर्थिक रुप से कमजोर तथा लोगों को विद्रोही बनाने के लिए सेकुलर, लिबरल और कौमनष्‍टों की जमात ने आर्थिक सहायता देने और लेने वालों के हाथों को रोकने के लिए एक नई साजिश रचते हुए एक नया वीडियो जारी किया है।

अरुण कुमार सिंह

बामपंथियों, सेकुलरों और कौमनष्‍टों की साजिश को जानने के लिए हमें थोड़ा पीछे जाना पड़ेगा। देश में 25 मार्च से 21 दिन के लिए लाकडाउन किया गया। बड़े महानगरों से मजदूर वर्ग ने पलायन करना शुरु किया। इसके बाद इस जमात ने इनकी पैदल चलते हुए मार्मिक फोटो डालते हुए फेसबुक पर टिप्‍पडि़या की। लेकिन उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार ने दो दिनों में इस समस्‍या का समाधान कर लिया। इसके बाद जमातियों और जाहिलों को आन्‍दोलित करने के लिए कई तरह की वीडियो आई। लेकिन वह किसी काम की नहीं रही। इसके बाद दूसरा प्रहार घर से बाहर निकल रहे लोगों को पीटने के वीडियो और फोटो के जरिए किया जाने लगा। जनता ने इसे भी नकार दिया। ताली और थाली बजाने तथा घर के बाहर दीपक जलाने के लिए प्रधानमन्‍त्री मोदी के आह्वान का भी मजाक उड़ाया गया। लेकिन जनता इनके प्रोपोगण्‍डा को नकारती रही। बाहर से लौटे लोगों, गरीबों और मजदूरों को संभालने के लिए हमारे गांव गांव और शहर शहर में रह रहे दानवीरों ने अपना खजाना खोल दिया। हर जगह सनातनी परम्‍परा के लोग गरीबों, मजदूरों, मजलूमो को सहायता राशि के साथ ही राशन और भोजन इत्‍यादि कराते देखे जा रहे हैं। लोग सहायता देते हैं और उनके साथ फोटो खिंचवाते हैं, सोशल मीडिया पर डालते हैं। इससे समाज का एक बड़ा वर्ग सहायता देने के लिए उत्‍साहित होता है। सहायता का एक सि‍लसिला चल पड़ा है। बामपंथी सोचते थे कि 10 दिनों में अखण्‍ड भारत की कमर टूट जाएगी। लेकिन सनातनी सभ्‍यता ने ऐसा नहीं होने लिया। एक दूसरे की सहायता करते हुए निरन्‍तर आगे बढ़ रहे हैं। लाक डाउन का कोई प्रभाव नहीं पड़ा। ……………. बस यहीं से दर्द होने लगा सेक्‍यूलरो, लिबरलों और बामपंथियों के पेट में। फोटो और वीडियो का अपनी गन्‍दी लड़ाई का हथियार बनाने वाले बामपंथियों ने अब एक नया वीडियो पेश किया है। कुशल अभिनेता, अभिनेत्री और निर्देशक के निर्देशन में बने इस वीडियो में एक परिवार में सहायता देने वालों की टीम जाती है। सहायता देती है, वीडियो बनाती है , भूखा परिवार इनकी सहायता लेने के लिए इनकार कर देता है। वीडियो में दिखाएं गए कथित अभिनेता और अभिनेत्री पूरी तरह से अपने कार्य में दक्ष दिख रहे हैं। सहायता देने वाले युवकों को इस प्रकार से पेश किया गया है कि मानों वे सहायता देने नहीं आए हैं बल्कि भूखे भेडि़ए हैं। सहायता लेने वालों को स्‍वाभिमानी दिखाया गया है। वीडियों को अन्‍त में इस तरह से बनाया गया है कि सहायता लेने वाली बालिका के हाथ में बंधा कलावा दिखाई दे, तथा लोग उससे प्रेरणा लेते हुए इस तरह की सहायता लेने से इनकार कर दें। इस वीडियो से एक साथ ही कई निशाने साधे गए हैं।

यही वीडियो किया जा रहा है वायरल

1 – सहायता देने वाले संकोची लोग वीडियो देखें तो उनको आत्‍मग्‍लानि हो और वे लोगों को इसलिए सहायता देना बन्‍द कर दें, कि कहीं वे सहायता देने जाएं तो उनके बारे में भी लोग इस तरह का न सोचे जैसा लड़कियों ने सोचा था। इसलिए वे सहायता करना बन्‍द कर देंगे। इसके बाद भुखमरी की स्थिति आएगी और उससे निबटने के लिए सरकार धन मुहैया कराएगी और सरकार की आर्थिक स्थिति बिगड़ेगी।

2- यह वीडियो देखकर आर्थिक सहायता लेने वाले लोगों का स्‍वाभिमान जाग जाए और वे सनातनी दानवीरों की सहायता लेने से इनकार कर दें। इसके चलते सरकार को राशन व अन्‍य बुनियादी सेवाओं की आपूर्ति खुद करनी पड़े तथा सरकार को आर्थिक नुकसान उठाना पड़े और वित्‍तीय संकट पैदा हो।

इसलिए देश के लोगों आपसे यह आग्रह है कि आप लोग इन लोगों की वीडियो से कभी विचलित न हों, लोगों को खूब सहायता दें। खूब फोटो खिंचवाएं और वीडियो बनाएं। अपनी फेसबुक व सोसल मीडिया के उपर डालें। ताकि अन्‍य लोग सहायता देने के लिए आगे आएं। सरकार पर कोई अतिरिक्‍त बोझ न बढ़े। सहायता लेने वाले लोगों से यह अनुरोध है कि वे सहायता लें, बिन शर्म के फोटो खिंचवाएं। बेवजह स्‍वाभिमान को न जगाएं। यह बुरा वक्‍त है, बीत जाएगा। आपको सहायता देने वाले लोग बहुत ही निष्‍छल होकर आपकी सहायता कर रहे हैं। वीडियो और फोटो का कोई मतलब नहीं होता है। …… यह केवल प्रोपोगण्‍डा मात्र है। इस तरह के वीडियो शेयर करने वाले लोगों का देशहित से कोई भी सम्‍बन्‍ध नहीं है। ये देश को तोड़ने की साजिश मात्र है। संकट के समय आप लोगों को सावधान रहना होगा। …………… इसे शेयर भी करें ताकि लोग इस वीडियो को देखकर सहायता लेने और देने से अपने हाथ पीछे न खींचे।

-----
लिंक शेयर करें