Breaking News

विपदा से जूझ रहे दो परिवारों के मुखिया की भूमिका में नजर आए डॉ उदय चतुर्वेदी ( देवीलाल गुप्‍त की रिपोर्ट )

– नैनाझाला और नीबा होरिल गांव में पहुंचकर दो परिवारों को दिए 35 हजार रुपए

– देवदूत के रुप में पहुंचे डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी को देखकर छलक पड़े लोगों के आंसू

संतकबीरनगर , न्‍यूज केबीएन ।

संतकबीरनगर जनपद में समाजसेवा के सशक्‍त हस्‍ताक्षर बन चुके सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने बुधवार को कोरोना काल में विपदा से जूझ रहे दो परिवारों को आर्थिक सहायता प्रदान की। इन दोनों परिवारों के मुखिया की मौत हो गई थी तथा उनके ब्रह्मभोज के लिए डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने 35 हजार रुपए की नकद सहायता दी। ये दोनो परिवार नैनाझाला और नीबा होरिल गांव के निवासी हैं।

नैनाझाला गांव में विपदा से जूझ रहे परिवार को आर्थिक सहायता प्रदान करते हुए डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी

सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी सबसे पहले नैनाझाला गांव पहुंचे। वहां पर गाव में बीमारी के चलते अमरनाथ नाम के व्यक्ति की मौत हो गयी थी । परिवार ने अपना एक कमाऊ सदस्य खो दिया जिसके बाद किसी तरीके से परिवार ने दाह संस्कार तो कर लिया लेकिन ब्रह्मभोज करने के लिए परिवार के पास पैसे नहीं थे जब इसकी जानकारी समाजसेवी डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी को लगी तो पीड़ित परिवार के घर पहुंच गए। वहां पर जाकर उन्‍होने परिवार के लोगों से यह पूछा कि कितने पैसे मिल जाएं तो उनके परिवार का ब्रह्मभोज कार्यक्रम पूरा हो जाएगा। परिवार के सदस्‍यों ने 15 हजार रुपए की बात कही तो उन्‍होने तुरन्‍त ही 15 हजार रुपए परिवार को आर्थिक सहायता के रुप में प्रदान किया। साथ ही यह कहा कि अगर कोई भी जरुरत हो तो तुरन्‍त ही बताएं उनकी हर संभव सहायता की जाएगी। इस दौरान उन्‍होने प्रधान मनोज कुमार को उन परिवारों की देखभाल के लिए निर्देश भी दिया। इस दौरान वे उसी गांव के निवासी रामआसरे गुप्‍ता के घर पहुंचे तथा राजनैतिक चर्चा भी की।

नीबा होरिल गांव में पीडि़त परिवार के लोगों को सहायता प्रदान करते हुए टीम उदय प्रताप चतुर्वेदी के लोग

इसके बाद समाजसेवी डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी का काफिला नीबाहोरिल गांव पहुंचा। वहां पर कुछ दिन पूर्व उस गांव के रहने वाले उदित नारायण नाम के व्‍यक्ति की मजदूरी के दौरान हृदयाघात में मौत हो गई थी। अतिगरीब परिवार होने के कारण पीड़ित परिवार ब्रह्मभोज संस्कार करने में असमर्थ था । डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने वहां पर भी परिवार के लोगों से यह पूछा कि कितने धन में उनका काम पूरा हो जाएगा। परिवार के सदस्‍यों ने 20 हजार रुपए की बात कही। इसके बाद डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने परिवार को 20 हजार की आर्थिक सहायता दी तो गरीब परिवार के चेहरे पर उम्मीद की किरण जग गई पीड़ित परिवार ने समाजसेवी डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी का आभार व्यक्त किया । इस दौरान समाजसेवी दानिश खान, बलराम यादव, रविंदर यादव,सुबाष तिवारी ,आंनद ओझा ,सुशील पाण्डेय सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

-----
लिंक शेयर करें