Breaking News

सम्‍पूर्ण समर्पण के साथ डॉ उदय व राकेश चतुर्वेदी ने किया पितरों को तर्पण ( देवीलाल गुप्‍त की रिपोर्ट )

  • विद्वान ब्राह्मणों के निर्देशन में आयोजित हुआ तर्पण का कार्यक्रम

  • हजारों लोगों को भोजन, वस्‍त्र, अन्‍न और धन का किया गया दान

  • स्‍व. पं. सूर्यनारायण चतुर्वेदी के श्राद्ध कार्यक्रम में पहुंचे हजारो लोग

संतकबीरनगर, न्‍यूज केबीएन।

अतृप्त सूक्ष्म आत्मा निमित्त श्राद्ध तर्पण पिंड हित।
मुक्ति युक्ति कनागति सिद्ध पितरों की स्वर्गादिगति।।

पूर्वांचल के मालवीय स्‍मृतिशेष स्‍व पं. सूर्यनारायण चतुर्वेदी की स्‍मृति में पितृ विसर्जन के श्राद्ध कार्यक्रम का आयोजन उनके पैतृक निवास भिटहां में पूरे पारम्‍परिक रीति रिवाज के साथ सम्‍पन्‍न हुआ। चतुर्वेदी परिवार ने पूरे समर्पण के साथ अपने पितरों को तर्पण किया तथा उनके सुख, शान्ति के लिए दीन दुखियों तथा ब्राह्मणों को भोजन, वस्‍त्र , अन्‍न और धन देने की परम्‍परा का निर्वहन किया। इस दौरान हजारों लोगों ने भिटहां गांव में पहुंचकर उनके श्राद्ध कार्यक्रम में भाग लिया।

भिटहां गांव में चतुर्वेदी निवास में भोजन करते हुए विद्वान विप्रगण

शक संवत 1942, अश्विन कृष्‍ण नवमी, दिन शुक्रवार विक्रम संवत 2077 को अभिजित मुहूर्त में आयोजित इस श्राद्ध कार्यक्रम के दौरान जिले के विभिन्‍न स्‍थानों से आए विद्वान पण्डितों ने वैदिक मन्‍त्रोच्‍चार व पारम्‍परिक रीति रिवाज के साथ उनके ज्‍येष्‍ठ पुत्र डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी के निर्देशन में श्राद्ध का यह कार्यक्रम प्रारम्‍भ किया। श्राद्ध मन्‍त्रों के बीच भोजन का सिलसिला शुरु हुआ। सभी विद्वत द्विजों को ससम्‍मान भोजन के दौरान ही वस्‍त्र, धन, अन्‍न भी प्रदान किया। इस दौरान डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी, राकेश चतुर्वेदी, पं जनार्दन चतुर्वेदी, दिग्विजय नारायण चतुर्वेदी उर्फ जय चौबे, रत्‍नेश चतुर्वेदी, अखण्‍ड प्रताप चतुर्वेदी, पं रजत चतुर्वेदी, राजन चतुर्वेदी, शिवम चतुर्वेदी आदि ने ब्राह्मणों को द्रव्‍य दान किया तथा उनका स्‍नेहाशीष प्राप्‍त किया। भोजनोंपरान्‍त उनकी जूठी थाली को चतुर्वेदी परिवार के हर व्‍यक्ति ने उठाकर श्रद्धापूर्वक विसर्जित किया।

विप्रजनों को भोजन व वस्‍त्रादि प्रदान करते हुए डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी

तत्‍पश्‍चात जिले के विभिन्‍न भागों से आए तकरीबन 500 ब्राह्मण समुदाय के लोगों को विभिन्‍न पंक्तियों में चतुर्वेदी परिवार के लोगों के द्वारा भोजन कराया गया तथा उन्‍हें श्रद्धापूर्वक भोजन, वस्‍त्र और धन का दान किया। जिले के विभिन्‍न भागों से आए गणमान्‍य लोगों को भी पूरे उत्‍साह के साथ श्राद्ध का यह भोज कराया गया। भोजन का यह कार्यक्रम देर शाम तक चलता रहा। इस दौरान हरिहरपुर के चेयरमैन रवीन्‍द्र प्रताप शाही उर्फ पप्‍पू शाही, मनोज कुमार पाण्‍डेय, दानिश खान,  यादवेश यादव उर्फ झाले यादव, रवीन्‍द्र यादव, ब्रह्मशंकर भारती, रत्‍नेश मिश्रा, सिद्धनाथ पाण्‍डेय, पदमाकर पाण्‍डेय, अंकित पाल, निहाल चन्‍द्र पाण्‍डेय, सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी के प्रधानाचार्य रविनेश श्रीवास्‍तव, उप प्रधानाचार्य शरद त्रिपाठी, अशोक चौबे, जीपीएस के प्राचार्य चन्‍द्र प्रकाश श्रीवास्‍तव, शुभीदेवी महाविद्यालय के प्राचार्य चिन्‍तामणि उपाध्‍याय, मनोज पाण्‍डेय, वेद पाण्‍डेय, सूर्या के व्‍यवस्‍थापक बलराम यादव के साथ ही साथ अन्‍य लोग मौजूद रहे।

सुनील भण्‍डारी ने बनाया सुस्‍वादु भोजन

जिले में भोजन बनाने के मामले में एक बेहतर मुकाम बनाने वाले कैटरर सुनील तिवारी ने पूरे श्रद्धा के साथ बिना लहसुन व प्‍याज के सुस्‍वादु भोजन का निर्माण किया था। उनके साथ भोजन बनाने वाले सभी सहयोगी ब्राह्मण थे और उन्‍होने पूरी सफाई और शुद्धता के साथ भोजन का निर्माण किया था। उनके भोजन की सभी लोगों ने तारीफ की और बिना लहसुन और प्‍याज के किस तरह से बेहतर भोजन बनाया जाता है, उनकी इस कला को सभी ने सराहा।

बच्‍चों ने भी लिया भोजन का आनन्‍द

इस दौरान आस पास के गांवों से आए दीन दुखियों के बच्‍चों को भी पूरी श्रद्धा के साथ भोजन कराया गया। भोजनो परान्‍त बच्‍चों के चेहरे पर आत्मिक तृप्ति तथा खिली हुई मुस्‍कान पं सूर्य नारायण चतुर्वेदी की आत्‍मा को शान्ति प्रदान करने वाली थी। कारण यह था कि उनको बच्‍चों से बहुत ही लगाव था और किसी बच्‍चे को दुखी नहीं देख सकते थे। बच्‍चों की तृप्‍त आत्‍माओं को देखकर चतुर्वेदी परिवार भी काफी खुश दिखा।

लोगों को वितरित किए गए गमछे

इस दौरान डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी के निर्देश पर वहां पर भोजन कर रहे सभी लोगों को गमछे भी प्रदान किए गए। कोरोना काल को देखते हुए लोगों को यह गमछे इसलिए दिए गए कि अपनी सुरक्षा के लिए वे मुंह पर गमछे बांधकर चलें। ताकि उन्‍हें कोरोना का संक्रमण न हो सके।

-----
लिंक शेयर करें