Breaking News

दूसरी पुण्यतिथि : पूर्वांचल में शिक्षा की अलख जगाने वाले स्व. पं.सूर्यनारायन चतुर्वेदी को श्रद्धांजलि देते हर आंख हुई नम (रिपोर्ट – देवीलाल गुप्त)

दूसरी पुण्यतिथि : पूर्वांचल में शिक्षा की अलख जगाने वाले स्व. पं.सूर्यनारायन चतुर्वेदी को श्रद्धांजलि देते हर आंख हुई नम

– जनपद का हर रास्ते चल पड़े भिटहा की ओर……

– नाथनगर के ग्राम भिटहां में आयोजित पुण्यतिथि कार्यक्रम में उमड़ा जन सैलाब, जनपद के सभी गणमान्य हुए शामिल

देवीलाल गुप्त, संतकबीरनगर :

ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो इस दुनिया से रुख़्सत होने के बाद अपने पीछे अपना प्रभावी इतिहास छोड़ जाते हैं और उनकी यादें हमेशा दिलो-दिमाग में घर किए होती हैं। दिवंगत शिक्षा जगत को एक नया आयाम देने वाले पं. सूर्य नारायण चतुर्वेदी ऐसे ही व्यक्ति थे। आज इनकी दूसरी पुण्यतिथि उनके पैतृक गांव भिटहा में आयोजित हुई। यहां पर स्व. पं.सूर्यनारायन चतुर्वेदी को श्रद्धांजलि देते हुए हर किसी कि आंखे नम हो गई। शनिवार को सुबह होते ही जनपद के हर रास्ते पूर्वांचल के मालवीय कहे जाने वाले स्व. पं.सूर्यनारायन चतुर्वेदी के गांव उनको श्रद्धा – सुमन अर्पित करने के लिए चल पड़े। इन्होंने समाज को जोड़ने के साथ – साथ इस पूर्वांचल में शिक्षा की अलख जगाकर एक नई दिशा देने की एक चैन बनाया है। इस चैन को आगे बढ़ाने के लिए संतकबीरनगर जिले के भिटहा गांव का यह चतुर्वेदी परिवार अनवरत आगे ले जाने को तैयार है। उनके सपनों को साकार करने के लिए परिवार के सदर विधायक दिग्विजय नारायण चतुर्वेदी व उनके बड़े पुत्र सूर्या इंटरनेशनल एकेडमी के प्रबंधक डॉ.उदय प्रताप चतुर्वेदी एवं छोटे पुत्र राकेश चतुर्वेदी सहित अन्य सदस्य लगातार समाजिक कार्यों से लेकर गरीब, असहायों की मदद के साथ ही शिक्षा विकास को आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं। स्व. पंडित सूर्यनारायण चतुर्वेदी जी एक सामाजिक व्‍यक्ति थे, जिन्‍होंने पूरी उम्र समाज की भलाई और शिक्षा जगत के उन्नित में लगा दी। उन्‍होंने सामाजिक समरसता के तहत समाज को जोड़ने का भरसक प्रयास किया। उनके कार्यों को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। शिक्षा व समाजिक कार्यों के लिए वे सदैव प्रेरणाश्रोत रहेंगे।

श्रद्धांजलि देते हुए फफक कर रो पड़ा पूरा परिवार………
दादा जी को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के लिए जब परिवार के सभी सदस्य उनके चित्र के सामने पहुंचे तो बेहद भावुक हो उठे और पुष्पांजलि अर्पित करते हुए अपने आंसुओं को रोक नहीं सके और फफक कर रोने लगे। यहां पर कुछ पल के लिए सन्नाटा छा गया था। इस दौरान बड़े पुत्र डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी, छोटे पुत्र राकेश चतुर्वेदी, उनकी माता जी साथ में बहू सविता चतुर्वेदी, शिखा चतुर्वेदी, भतीजे सदर विधायक दिग्विजय नारायण उर्फ जय चौबे, जनार्दन चतुर्वेदी, रत्नेश चतुर्वेदी, अखण्ड प्रताप चतुर्वेदी, राजन चतुर्वेदी और रजत चतुर्वेदी, सरगम चतुर्वेदी सहित सभी लोग अपने आंखो के आंसू को रोक नही सकें।

पुण्यतिथि पर गरीबों को दिया गया अंग वस्त्र

स्व. पंडित सूर्यनारायण चतुर्वेदी के दूसरी पुण्यतिथि पर क्षेत्र की सैकडों गरीब, असहाय लोगों में अंग वस्त्र और नगद धनराशि दान प्रदान कर भोजन कराया गया। विधायक दिग्विजय नारायण, डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी, राकेश चतुर्वेदी के साथ परिवार के अन्य लोगों ने गुप्त दान देते हुए सभी संतों का सम्मान किया गया। इसके पूर्व ही वैदिक मंत्रोच्चार के साथ अपने श्रद्धेय स्व. पिता जी के आत्मा की शान्ति के लिए अनुष्ठान किया गया। इसके बाद भजन गायक गोरखनाथ मिश्र और उनकी टीम ने अपने सुरमई अंदाज मे शिक्षा जगत की अलख जगाने वाले ऐसे व्यक्ति के याद में अपनी भजन प्रस्तुतियों के मनमोहक अंदाज मे श्रृद्धा सुमन अर्पित किया।
बड़े पुत्र डा उदय प्रताप चतुर्वेदी व राकेश चतुर्वेदी का छलका दर्द

एक पिता कभी अपने बेटों पर बोझ नही आने देता है जबतक वो जिंदा रहता है। इसलिए कहा गया है कि परिवार के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाला एक ही इंसान होता है और वो हैं ‘ पिता ‘। जब तक पिता हमारे साथ रहते हैं तब तक वह सारी जिम्मेदारी निभाते हैं। हर काम आसान होता है और तब तक हमें किसी बात का एहसास नहीं होता है। इस बात का एहसास हमें उनके चले जाने के बाद होता है। वो सारी जिम्मेदारी खुद पर जब आती है तब पिता जी की बहुत याद आती है, लेकिन इसके बाद कुछ बाकी रह जाता है तो बस उनके साथ बिताई यादें और उन्हें ना समझ पाने का पछतावा। उनकी कमी हमेशा महसूस होती है। यह सारी बातें कहते हुए बड़े बेटे डा. उदय प्रताप व राकेश चतुर्वेदी रो पड़ते हैं।

इस मौके पर सपा के वरिष्ठ नेता जयराम पांडेय, ब्लाक प्रमुख मनोज राय, बसपा से खलीलाबाद विधानसभा प्रभारी सुबोध यादव, हरिनारायण उर्फ गुड्डू बाबा, सतेंदर राय, बलराम यादव, युवा समाजसेवी दानिश खान, अभयनन्द सिंह, वेद प्रकाश पाण्डेय, मनोज कुमार पाण्डेय, बसपा नेता नित्यानंद यादव, सचिव पांडेय, यादवेश यादव उर्फ झाले प्रधान, पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि रविन्द्र यादव, निहाल चन्द पाण्डेय, धीरज पाण्डेय, अंकित पाल, धर्मेन्द्र कन्नौजिया, कपिलदेव यादव, ब्रह्मशंकर भारती, टी एन गुप्ता, सहित हजारों लोग मौजूद रहे।

 

-----
लिंक शेयर करें