Breaking News

विवाहित महिला की जलने से हुई मौत, दहेज हत्‍या का मुकदमा

– दुधारा थानाक्षेत्र के केकरहों रेहवा गांव का है मामला

– परिजनों ने कहा महिला ने खुद को ही कमरे में जलाया

संतकबीरनगर। न्‍यूज केबीएन

जिले के दुधारा थानाक्षेत्र के केकरहो रेहरवा गांव में सुबह संदिग्‍ध परिस्थितियों में जलने से एक महिला की मौत हो गई। परिजनों का कहना है कि उक्‍त महिला ने खुद को कमरे में बन्‍द करके जलाया था। जबकि पुलिस इस मामले में पूछताछ कर रही है।

घटनास्‍थल पर पूछताछ करते हुए अपर पुलिस अधीक्षक व अन्‍य पुलिस अधिकारीगण

केकरहों गांव के रेहरवा पुरवा निवासी गौतम 25 वर्षीया पत्‍नी मनीता सुबह अपने  कमरे में मरी हुई पाई गई। लोगों ने दरवाजा तोड़कर देखा तो वह कमरे में जली हुई मरी पड़ी थी। लोगों ने इस बात की जानकारी मुकामी पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को अपने कब्‍जे में ले लिया। इस मामले में परिजनों का कहना था कि उक्‍त महिला ने खुद को कमरे में बन्‍द कर लिया था। इसके बाद उसने मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली थी। बताया जाता है कि दुधारा थाना क्षेत्र केकरहो निवासी गौतम की पत्नी मनीता की रविवार अपने पति गौतम से अपसी बात को लेकर कहासुनी हुई थी उसके बाद मनीता रात को खाना खाकर अपने कमरे मे जाकर सोयी थी सुबह जब परिजन देर होते देख मनीता के कमरे घुसे तो मनीता अपने कमरे के फर्स पर पूरी तरह जलकर पडी थी | घटना की सूचना पर एएस पी अशोक कुमार वर्मा, सीओ सदर प्रमोद कुमार, दुधारा एसओ और कांटे चौकी प्रभारी राम भवन यादव मौके पर पहुच गये और परिजनो का बयान दर्ज किया |

घटनास्‍थल पर मौजूद उमड़ी लोगों की भीड़

वहीं दूसरी तरफ मृतका के पिता सीताराम का आरोप है कि मृतका के पति गौतम, सास अनूपा देवी, देवर भजन पुत्र रामकेश ने उसको दहेज के लिए जलाकर मार डाला। इस मामले में मुकामी पुलिस ने उन लोगों के खिलाफ धारा 498 ए, 304 बी, 201 भादवि व ¾ दहेज अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उसके शव को पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया है।

तीन साल के मासूम का कौन होगा सहारा

Newskbn, Mahila ki maut, fire , mehdawal, Dhanghta , khalilabad, bakhira, santkabirnagar

मासूम विवेक

उक्‍त महिला के एक तीन साल का बच्‍चा विवेक भी है। वह बच्‍चा इस घटना में जिन्‍दा बच गया है। महिला ने उसे घर के बाहर छोड़ दिया था। लोगों को इस बात को लेकर काफी चिन्‍ता है कि आखिर उक्‍त तीन साल के बच्‍चे का सहारा आखिर कौन होगा। मां के मौत के बाद घर पर भीड देख विवेक कुछ समझ नही पा रहा था। वह मां के पास जाने की जिद कर रो रहा था। यह  देख शायद हर किसी की आखे नम हो जा रही थी | आठ वर्ष पूर्व मनीता की शादी केकरहो निवासी गौतम के साथ हुई थी शादी के पांच वर्ष बाद मनीता को विवेक के रूप मे एक बेटा पैदा हुआ था जिससे परिवार मे खुशियो की लहर दौड उठी थी | लेकिन आज कुछ माहौल और दिख रहा था विवेक की मां मनीता की लाश फर्श पर पडी थी, और लोग रो रहे थे। यह सब देख अबोध विवेक कुछ समझ नही पा रहा था , और लोगो को रोते देख रो रहा था और मां के पास जाने की जिद कर रहा था । लेकिन विवेक को क्या पता था कि उसकी मां इस दुनिया मे नही रही जिससे उसके सर से मां मनीता का साया हमेशा के लिए उठ चुका था

-----
लिंक शेयर करें