Breaking News

समाज में मनुष्य की सेवा ही सबसे बड़ा धर्म : वैभव चतुर्वेदी

ग्राम बरी में जाते समय रास्ते में युवा नेतृत्वकर्ता वैभव चतुर्वेदी का युवाओं का हुजूम फूल मालाओं के साथ कुछ इस तरह स्वागत किया

समाज में मनुष्य की सेवा ही सबसे बड़ा धर्म : वैभव चतुर्वेदी

बरी में बोलें युवा नेतृत्वकर्ता वैभव चतुर्वेदी” कहा सहभोज कार्यक्रम से सामाजिक समरसता का विकास होता है।

संतकबीरनगर : समाज में बिना भेद भाव के मनुष्य सेवा करना ही सबसे बड़ा धर्म कार्य है। इसको चरितार्थ करते हुए युवा नेतृत्वकर्ता वैभव चतुर्वेदी रविवार को अपने पैतृक गांव बरी पहुंचे। जहां आसपास गांव के सैकड़ो महिलाओं व बुजुर्गों में अंगवस्त्र एवं कंबल वितरण कर उनका आशीर्वाद लिया। वैभव चतुर्वेदी के लिए अपने गांव में हर लोगों के आंखो में प्रेम और स्नेह से भरा इस कार्यक्रम में युवा,बुजुर्गों से लेकर बच्चों के चेहरे पर मुस्कान झलक रही थी। जिले के युवा नेतृत्वकर्ता वैभव चतुर्वेदी ने समाज में जाति पात का भेदभाव रखने वाले को आईना दिखाते हुए सहभोज कार्यक्रम में सभी के बीच जमीन पर बैठकर एक साथ भोजन कर एक नजीर पेश किया। सैकड़ो की संख्या में युवाओं सहित सभी लोगों ने दिल खोलकर वैभव चतुर्वेदी का जोरदार स्वागत किया।

यह दृश्य देखकर हर किसी के आंखे नम हो गई जब वैभव चतुर्वेदी सहभोज कार्यक्रम से निकल रहे थे कि रास्ते में महिलाओं से आशीर्वाद लेने के लिए आगे बढ़े तो एक बुजुर्ग महिला ने उनको गले लगाया और अपने बेटे जैसा प्यार, स्नेह यूं बरसाया कि वैभव चतुर्वेदी के फोटो में देखकर इस भाव को खुद समझ सकते हैं...

वैभव चतुर्वेदी ने अपने संबोधन में पहले अपने गांव की माटी को प्रणाम करते हुए एक शेर के माध्यम से कहा कि..हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए, अब इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए। सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं, सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए। वैभव चतुर्वेदी के इस संबोधन पर तालियों की घड़गड़ाहत रुकने का नाम नहीं ले रही थी। उन्होंने कहा इतना मुझे मेरे गांव में प्रेम दुलार मिलता है कि मैं शब्दों से उसे बयां नहीं कर सकता। वैभव चतुर्वेदी ने कहा चतुर्वेदी ने कहा कि गरीब ब्यक्ति हर मुसीबत के समय समाज के सम्पन्न लोगों की तरफ आशा भरी निगाहों से देखता है। ऐसे उनकी हर संभव मदद करना मेरा कर्तव्य है। वैभव चतुर्वेदी ने कहा कि आज इस आयोजन से एक अलौकिक सुख की अनुभूति हुआ है।

रविवार को सहभोज कार्यक्रम में सम्मिलित होने पहुंचे युवा नेतृत्वकर्ता वैभव चतुर्वेदी ने गरीब, असहायों में अंगवस्त्र एवं कंबल वितरण करते हुए सभी प्रबुद्ध लोगों का सम्मान कर आशिर्वाद लिया

वैभव चतुर्वेदी के साथ निकला…. युवाओं का हूजूम……

सभी के साथ साहभोज कार्यक्रम में भोजन करने बैठे वैभव चतुर्वेदी…..

-----
लिंक शेयर करें