Breaking News

सो गया था जेट एयरवेज का पायलट, 33 मिनट तक प्‍लेन से कान्‍टैक्‍ट नहीं

नई दिल्ली. मुंबई से लंदन जा रहे जेट एयरवेज के प्लेन (9W 118) को जर्मनी के फाइटर प्लेन्स के घेरे जाने के मामले में एक खुलासा हुआ है। खबरों के मुताबिक, प्लेन का एक पायलट सोया हुआ था, वहीं दूसरे पायलट के पास गलत फ्रीक्ववेंसी होने के चलते आवाज नहीं पहुंच पा रही थी। इसके चलते वह कुछ सुन नहीं पाया और एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) से कॉन्टैक्ट नहीं कर पाया। 33 मिनट तक एटीसी से प्लेन का कॉन्टैक्ट नहीं हो सका था।
9W 118 प्लेन में 345 लोग सवार थे…
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना 16 फरवरी की बताई जा रही है। जर्मनी के आसमान में 9W 118 फ्लाइट का कॉन्टैक्ट, एटीसी टूट गया था। प्लेन में 15 क्रू मेंबर्स समेत 345 लोग सवार थे। एटीसी से कॉन्टैक्ट टूटने के बाद जेट एयरवेज के इस बोइंग-777 प्लेन की सुरक्षा के लिए अपने दो फाइटर प्लेन्स को भेजा। हालांकि बाद में प्लेन की लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट पर सेफ लैंडिंग करा ली गई। यही नहीं, जर्मन एटीसी ने उसी दौरान दिल्ली-लंदन फ्लाइट (9W 122) से संपर्क किया। ये फ्लाइट, 9W 118 से आगे चल रही थी। दिल्ली-लंदन फ्लाइट के क्रू ने भारत के जेट फ्लाइट ऑपरेशन को मुंबई-लंदन फ्लाइट से बात करने के लिए कहा। भारत से सैटेलाइट फोन पर की गई बातचीत में मुंबई-लंदन फ्लाइट के क्रू ने बताया कि फाइटर प्लेन दूर चले गए हैं और उनकी फ्लाइट लंदन की तरफ बढ़ रही है।
क्या बोले जेट के स्पोक्सपर्सन?
जेट एयरवेज के स्पोक्सपर्सन के मुताबिक, “एयरलाइन और डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) मामले की जांच कराएगा। इस वक्त हम कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई-लंदन फ्लाइट का 33 मिनट तक एटीसी से कॉन्टैक्ट कटा रहा। इस दौरान उसने 500 किमी तक का सफर तय किया था। मामला तब चेक रिपब्लिक के आसमान में सामने आया। ब्रातिस्लावा (चेक की राजधानी) के ऊपर मुंबई-लंदन फ्लाइट की फ्रीक्वेंसी मिली और तब उससे संपर्क हो पाया।
ढाका में रनवे से टकराया था जेट एयरवेज के प्लेन का पिछला हिस्सा
बता दें कि ढाका इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर 22 जनवरी को लैंडिग के दौरान जेट एयरवेज का विमान का पिछला हिस्सा रनवे से टकरा गया था। इस विमान में 168 लोग सवार थे।जेट एयरवेज के मुताबिक हादसे के बाद सभी यात्रियों को सुरक्षित प्लेन से बाहर निकाल लिया गया था। 22 तारीख को हुए इस हादसे की जानकारी डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) को दी गई थी। इसके बाद पालयट्स को ड्यूटी से हटा दिया गया था।जेट एयरवेज ने बताया, “मुंबई से ढाका जा रही फ्लाइट 9W-276 में 160 पैसेंजर्स बैठे थे और इसमें 8 क्रू मेंबर्स थे। किसी को चोट नहीं आई। सभी को सुरक्षित विमान से बाहर निकाल लिया गया था।”

-----
लिंक शेयर करें