Breaking News

हिन्‍दी भाषी क्षेत्र में हिन्‍दी में काम करना हमारा नैतिक दायित्‍व : राजीव मिश्र

पूर्वोत्‍तर रेलवे राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की बैठक हुई सम्‍पन्‍न

  • हिन्‍दी में काम करने के लिए दिए गए विविध दिशा निर्देश

गोरखपुर। पूर्वोत्तर रेलवे राजभाषा विभाग के तत्त्वावधान में क्षेत्रीय रेलवे राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक महाप्रबन्धक बैठक कक्ष, गोरखपर में सम्पन्न हुई, जिसकी अध्यक्षता महाप्रबन्धक राजीव मिश्र ने किया। बैठक में अपर महाप्रबन्धक एस.एल.वर्मा, मुख्य राजभाषा अधिकारी एवं मुख्य याँत्रिक इंजीनियर ए.के. सिंह, सभी प्रमुख विभागाध्यक्ष, तीनों मंडलों के अपर मण्डल रेल प्रबन्धक तथा राजभाषा विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। इस अवसर पर महाप्रबन्धक ने ई. गोविन्द प्रसाद शुक्ल, सहायक मण्डल यांत्रिक इंजीनियर/वाराणसी द्वारा संपादित ‘दोष निवारक‘ उच्चीकृत रेल यान पुस्तक का विमोचन किया।

                बैठक को सम्बोधित करते हुये महाप्रबन्धक राजीव मिश्र ने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे पूर्णतः हिन्दी भाषी क्षेत्र में स्थित है और इस क्षेत्र में हिन्दी में काम करना हम सभी का नैतिक दायित्व है। महाप्रबन्धक ने कहा कि आप सभी अपने कार्यक्षेत्र में हिन्दी में काम करने में सहयोगी गूगल वायस टाइपिंग एवं अन्य टूल का प्रयोग बढ़ायें, जिससे राजभाषा के प्रयोग-प्रसार को गति मिलेगी। महाप्रबन्धक ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देष दिया कि मुख्यालय एवं मंडलों में महान साहित्यकारों की जयन्तियाँ एवं उन पर संगोष्ठी का नियमित आयोजन करें। ऐसे लोकप्रिय कार्यक्रमों के आयोजन से राजभाषा के प्रति अधिकारियों एवं कर्मचारियों का रूझान बढ़ेगा और अपना कार्य हिन्दी में करने के लिये प्रेरित होंगे। श्री मिश्र ने कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे राजभाषा के प्रयोग-प्रसार में अग्रणी है फिर भी सभी विभाग अपने कार्य क्षेत्र में उन क्षेत्रों का पता लगायें जहाँ हिन्दी में कार्य करने में कठिनाई हो रही है और उन कठिनाइयों को दूर करें।

इसके पूर्व, मुख्य राजभाषा अधिकारी एवं मुख्य यांत्रिक इंजीनियर ए.के.सिंह ने महाप्रबन्धक एवं उपस्थित सदस्यों का स्वागत करते हुये कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे पर राजभाषा प्रयोग-प्रसार की स्थिति काफी बेहतर बनी हुई है। उन्होंने कहा कि रेलवे बोर्ड के निर्देष पर पूर्वोत्तर रेलवे मुख्यालय गोरखपुर में 05 से 07 सितम्बर,2016 तक अखिल रेल स्तर पर हिन्दी निबन्ध, वाक तथा टिप्पणी एवं प्रारूप लेखन प्रतियोगिता सफलतापूर्वक आयोजित किया गया। इस सम्बन्ध में पूर्वोत्तर रेलवे को रेलवे बोर्ड से प्रषस्ति-पत्र दिया गया है। मुख्य राजभाषा अधिकारी ने कहा कि विगत 06 अक्टूबर,2016 को रेलवे अधिकारी क्लब,गोरखपुर में सभी विभागों द्वारा राजभाषा प्रदर्शनी  लगाई गई जिसकी सभी ने भूरि- भूरि प्रसंशा  किया। उन्होंने कहा कि तकनीक के प्रयोग से राजभाषा के प्रयोग प्रसार को बढ़ावा देने के लिये संगोष्ठियों का आयोजन किया जा रहा है।

                बैठक में डा0 ज्ञानेन्द्र मोहन अपर मुख्य चिकित्सा निदेश्‍ाक, रेलवे कैंसर संस्थान, वाराणसी ने ‘‘कैंसर बचाव हेतु जीवन शैली में परिवर्तन के लिये दस सुझाव‘‘ पर विस्तृत व्याख्यान राजभाषा हिन्दी में दिया। डा0 ज्ञानेन्द्र मोहन ने कैंसर से बचाव के लिये तम्बाकू सेवन छोड़ने, वजन नियत्रित रखने, खान-पान में सुधार, मदिरा सेवन न करने, शारीरिक सक्रियता बढ़ाने फलों का सेवन करने, फास्ट फूड से परहेज तथा नियमित चिकित्सीय जाँच आदि पहलुओं पर विस्तार से चर्चा किया। डा0 ज्ञानेन्द्र ने कैंसर के जेनेटिक कारणों एवं उपचार के विभिन्न स्तरों पर विस्तार से बताया।

श्याम बाबू शर्मा, वरिष्ठ अनुवादक राजभाषा विभाग ने कम्प्यूटर पर यूनीकोड कार्यपद्धति तथा गूगल वायस टाइपिंग का प्रदर्शन किया तथा कम्प्यूटर पर राजभाषा हिन्दी में आसानी से कार्य करने की प्रक्रिया को दर्शाया जिसकी सभी ने सराहना की । बैठक में सभी विभागों के विभागाध्यक्षों एवं अपर मंडल रेल प्रबन्धकों ने अपने अपने विभागों एवं मंडलों में राजभाषा प्रयोग-प्रसार की स्थिति से महाप्रबन्धक को अवगत कराया। उप मुख्य राजभाषा अधिकारीएम.एन.दूबे ने बैठक का संचालन करते हुये पिछली बैठक के कार्यवृत्त के प्रमुख निर्णयों के अनुपालन स्थिति से सदस्यों को अवगत कराया। बैठक का समन्वयन राजभाषा अधिकारी ध्रुव कुमार श्रीवास्तव ने तथा धन्यवाद ज्ञापन वरिष्ठ राजभाषा अधिकारी वी.डुंगडुंग ने किया।

-----
लिंक शेयर करें