Breaking News

खालसा पंथ के स्‍थापना दिवस बैशाखी पर हुए शबद कीर्तन, चले लंगर

– गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा के द्वारा आयोजित किया गया कार्यक्रम

– नगर विधायक जय चौबे ने उपस्थित होकर खालसा पंथ को दी बधाई

संतकबीरनगर । अरुण सिंह

खालसा पंथ के स्‍थापनाा दिवस बैशाखी के अवसर पर गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा में उपस्थित नगर विधायक जय चौबे व साथ में विविध समुदायों के लोग

सम्‍बोधन जय चौबे

भाजपा नेता अवधेश सिंह को सिरोपा भेट करते हुए सरदार अजीत सिंह

सिख समुदाय के अनुयायियों ने खालसा पंथ का स्थापना दिवस वैशाखी परंपरागत ढंग से मनाया । शहर के गुरुद्वारा गुरु सिंह सभा में भव्य झांकी सजा कर गुरु वाणी के साथ भजन-कीर्तन व पाठ किया गया। इस अवसर पर गुरु के समक्ष मत्था टेक अपनी मुरादें पूरी करने की अरदास रखकर मंगल कामना की गई। साथ ही गुरू के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प दोहराया गया। अटूट लंगर छकने एवं प्रसाद वितरण का सिलसिला देर सायं तक जारी रहा। इस दौरान सिख समुदाय के लोगों के साथ ही साथ नगर विधायक दिग्विजय नारायण चतुर्वेदी उर्फ जय चौबे के साथ ही विभिन्‍न समुदायों के लोग उपस्थित  रहे।

खलीलाबाद के गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा में वैशाखी पर्व श्रद्धापूर्वक मनाया गया। गुरु दरबार की भव्य साज- सज्जा की गई थी। पाठ की समाप्ति के पश्चात भजन-कीर्तन हुआ। इस दौरान गुरुवाणी सुन संगत निहाल हो उठी। खालसा तेरो रुप है. खाय खालसा में मैं करूं निवास लोग वाहे गुरू की फतह व वाहे गुरू का खालसा आदि के बोल लगाते रहे। ज्ञानी जोगेंद्र सिंह, बीबी बलवंत कौर, अध्यक्ष सरदार अजीत सिंह ने कहा कि श्रीगुरू ने ईश्वर और मनुष्य के बीच संबंध को पेश करने के लिए श्रीगुरु गोविंद सिंह खालसा शब्द का प्रयोग किया। खालसा का अर्थ शुद्धता से है। इस बैशाखी पर्व पर अमृत छककर कर युवाओं को केश, कंघा, कृपाण, कड़ा व कच्छ धारण कराया गया। यहां छोटे -बड़े, बुजुर्ग सभी में उत्साह रहा। अंत में गुरु के अटूट लंगर के प्रसाद का वितरण किया गया।

बैशाखी पर्व के अवसर पर गुरुद्वारा में उपस्थित लोग

इस अवसर पर सरदार हरभजन सिह ,रवींद्र पाल टोनी, धर्मसिंह, गगनदीप सिंह, प्रीतपाल सिंह, प्रीतम सिंह, बनार्जी लाल अग्रहरी, शम्भू तिवारी, सतविंदर पाल सिंह(जज्जी), श्‍यामसुन्‍दर वर्मा, सत्यप्रकाश सिपाही, अवधेश सिंह, घनश्याम दास गुप्ता समेत सिख संगत व विभिन्न वर्ग के लोग मौजूद रहे।

नगर विधायक को भेंट की गई तलवार

कार्यक्रम में नगर विधायक दिग्विजय नारायण चतुर्वेदी उर्फ जय चौबे का नागरिक अभिनंदन किया गया। इस दौरान सदर विधायक जय चौबे ने कहा कि खलीलाबाद में सिख समुदाय के लोगों ने सामाजिक एकता और भागीदारी के साथ ही धर्मरक्षा में बढ़ चढ़कर हिस्‍सा लिया है। इसके लिए ये लोग बधाई के पात्र हैं। गुरु गोविन्‍द सिंह ने जिस तरह से धर्मरक्षा व किसी के साथ भेदभाव न करने की सीख दी थी। उसका हम सभी लोगों को पालन करना चाहिए। इस दौरान उन्‍हें सिरोपा तथा तलवार भी भेट की गई।

नगर विधायक को तलवार भेट करते हुए सरदार प्रीतपाल सिंह

बैशाखी के दिन ही हुआ था खालसा पंथ का जन्‍म

गुरु गोविन्‍द सिंह जी, वैशाखी दिवस को विशेष गौरव देना चाहते थे। इसलिए उन्होंने ने 1699 ई. को वैशाखी पर श्री आनन्‍दपुर साहिब में विशेष समागम किया। इसमें देश भर की संगत ने आकर इस ऐतिहासिक अवसर पर अपना सहयोग दिया। गुरु गोविंद सिंह जी ने इस मौके पर संगत को ललकार कर कहा- ‘देश को ग़ुलामी से आज़ाद करने के लिए मुझे एक शीश चाहिए। गुरु साहिब की ललकार को सुनकर पांच वीरों ‘दया सिंह खत्री,धर्म सिंह जट, मोहकम सिंह छीवां, साहिब सिंह और हिम्मत सिंह’ ने अपने अपने शीश गुरु गोविंद सिंह जी को भेंट किए। ये पांचो सिंह गुरु साहिब के पंच प्‍यारे कहलाए। गुरु साहिब ने सबसे पहले इन्हें अमृत पान करवाया और फिर उनसे खुद अमृत पान किया। इस प्रकार 1699 की वैशाखी को ‘खालसा पंथ’ का जन्म हुआ, जिसने संघर्ष करके उत्तर भारत में मुगल साम्राज्‍य को समाप्त कर दिया। हर साल वैशाखी के उत्सव पर ‘खालसा पंथ’ का जन्म दिवस मनाया जाता है।

सत्‍य प्रकाश गुप्‍ता सिपाही को सिरोपा भेट करते हुए सरदार अजीत सिंह

-----
लिंक शेयर करें