Breaking News

पत्‍नी ने बेटी से दूर किया तो पत्रकार ने फांसी लगाकर दी जान

  • कांशीराम शहरी आवास के एक कमरे में फन्‍दे से लटकता मिला शव
  •  पुलिस ने शव को कब्‍जे में लेकर पोस्‍टमार्टम के लिए भेजा

संतकबीरनगर। केबीएन न्‍यूज

पत्‍नी डॉ नम्रता के साथ राहुल श्रीवास्‍तव की फाइल फोटो

कोतवाली खलीलाबाद क्षेत्र के कांशीराम शहरी आवासीय योजना के आवास में एक पत्रकार ने फांसी लगाकर जान दे दी। उसके कमरे में सुसाइड नोट मिला है। जिसमें उसने अपनी मौत का जिम्‍मेदार खुद को माना है। बताया जाता है कि कुछ दिनों से वे पत्‍नी से अलग रहते थे। वे अपनी बेटी से बहुत प्‍यार करते थे। उन्‍होने अपनी पत्‍नी से यह कहा भी था कि मुझे अपनी बेटी के पास रहने दो। लेकिन वे राजी नहीं हुई थीं। इससे वे काफी डिप्रेशन में रहने लगे थे।

आजमगढ़ जनपद के मुबारकपुर थानाक्षेत्र के मूल निवासी राहुल श्रीवास्‍तव अपनी पत्‍नी डॉ नम्रता श्रीवास्‍तव के साथ गांधीनगर मुहल्‍ले में रहते थे। पिछले कुछ दिनों से उनकी अपनी पत्‍नी से अनबन हो गई थी। इसके बाद वे कांशीराम आवासीय योजना के ब्‍लाक नम्‍बर 68 में किराए पर एक कमरा लेकर रहने लगे। मंगलवार की सुबह वह अपने कमरे से बाहर निकले। वहां से वह चौराहे पर जाकर लोगों से मिले और फिर अपने कमरे में चले गए। शाम को 5 बजे के करीब एक महिला जिसे उस कमरे को किराए पर लेना था वह चाभी लेकर वहां पहुंची। उसने जब दरवाजा खोला तो उन्‍हें पंखे की कुण्‍डी से लटकते हुए पाया। इस बात की सूचना उसने कोतवाली पुलिस को दी। इसके बाद कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची। शव को अपने कब्‍जे में लेकर पुलिस ने पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया। उनके परिवार के सभी लोग मुम्‍बई में रहते हैं। उन्‍हें इस बात की सूचना दे दी गई है। उनके कमरे से एक सुसाइड नोट मिला है। जिसमें उसने अपनी मौत का जिम्‍मेदार खुद को माना है। उन्‍होने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि वे अब दुनिया छोड़कर जा रहे हैं। इसके लिए किसी को भी जिम्‍मेदार न माना जाए।

अपनी पत्‍नी व बच्‍चों के साथ राहुल श्रीवास्‍तव ( फाइल फोटो)

डॉ नम्रता से किया था प्रेम विवाह

राहुल श्रीवास्‍तव के परिवार के लोग मुम्‍बई के कल्‍याण में ही रहते हैं। वहां पर उन लोगों का अपना कारोबार है। वे भी मुम्‍बई में ही रहते थे। लेकिन अचानक उनके सम्‍बन्‍ध डॉ नम्रता से घनिष्‍ठ हो गए। उन्‍होने उनसे शादी कर ली थी। कतिपय कारणों से वे मुम्‍बई से डॉ नम्रता को लेकर खलीलाबाद आ गए थे। डॉ नम्रता प्रैक्टिस करने लगीं और राहुल श्रीवास्‍तव एक लोकल न्‍यूज चैनल में काम करने लगे। बाद में वे एक समाचार पत्र से भी जुड़ गए थे। तकरीबन 1 माह पहले उनके और डॉ नम्रता के बीच आपसी कहासुनी हो गई। इसके बाद वे अलग जाकर रहने लगे। वे अपनी 3 साल की बिटिया को बहुत ही प्‍यार करते थे। उससे मिलने के लिए वे घर पर भी जाते थे।

 

-----
लिंक शेयर करें