Breaking News

मुलायम और अखिलेश में नहीं हुई सुलह, जब्‍त हो सकता है साइकिल चुनाव चिन्‍ह

लखनऊ: समाजवादी पार्टी में मची उथल पुथल के बीच पिता मुलायम सिंह यादव और पुत्र एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीच सुलह समझौते का एक और प्रयास आज विफल हो गया। मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच तीन घंटे से ज्यादा समय तक चली बातचीत किसी निष्कर्ष पर पहुंचे बिना खत्म हो गयी। समझा जाता है कि अपनी अपनी दलील पर अड़े रहने के कारण यह बातचीत निरर्थक साबित हुयी। नयी दिल्ली से मुलायम के लौटने के बाद करीब 12.30 बजे अखिलेश अपने पिता के विक्रमादित्य मार्ग स्थित आवास पहुंचे। बाद में करीब तीन बजे श्री शिवपाल सिंह यादव ने भी बातचीत में हिस्सा लिया।

पत्रकारों से बात करने से इंकार
अखिलेश करीब साढ़े तीन बजे बैठक से बाहर आये मगर इस बारे में उन्होंने पत्रकारों से बात करने से इंकार कर दिया। मुख्यमंत्री इसके बाद पिता के घर से सटे अपने घर गये और करीब पांच मिनट गुजारने के बाद वहां से निकल कर पांच कालीदास मार्ग स्थित अपने सरकारी आवास चले गये। लखनऊ में बैठक की समाप्ति के बाद हालांकि प्रो0 रामगोपाल यादव ने दिल्ली में पत्रकारों से कहा कि सपा में अब कोई समझौता नहीं होगा और अखिलेश यादव के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में होने वाला राज्य विधानसभा चुनाव लड़ा जायेगा। प्रो0 यादव ने कहा कि चुनाव आयोग पार्टी के चुनाव निशान साइकिल पर फैसला करेगा मगर इस मुकाम पर पार्टी में सुलह समझौते की कोई गुजांइश नहीं है।

जल्द उपाय करने की गुहार
इस बीच पार्टी सूत्रों ने बताया कि सपा के एक वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद ने अखिलेश से आज सुबह मुलाकात की और उनसे खतरे में पड़े पार्टी के चुनाव चिन्ह की दुहाई देते हुये जल्द उपाय करने की गुहार की। उन्होंने कहा कि पार्टी का चुनाव चिन्ह अगर जब्त होता है तो यह पार्टी के लिये सही नहीं होगा। 

CM चेहरे पर कायम अखिलेश
सूत्रों के अनुसार अखिलेश दो बातों पर कायम हैं जिनमें खुद को मुख्यमंत्री चेहरा घोषित करने और टिकटों के चयन में उनकी सहमति शामिल हो। दूसरी ओर मुलायम ने बिना सहमति के राष्ट्रीय प्रतिनिधि सम्मेलन बुलाये जाने के प्रति नाराजगी व्यक्त की। अखिलेश के प्रस्ताव को उन्होंने ध्यान से सुना मगर कोई सहमति नहीं दी। नये साल में मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच यह पहली मुलाकात थी। मुलायम कल दिल्ली में चुनाव आयुक्त से मिले थे और अपना पक्ष रखा था। उन्होंने अखिलेश को सपा के अध्यक्ष घोषित करने को अवैध बताया था। 

 

चुनाव आयोग ने ‘साइकिल’ जब्त किये जाने के दिए संकेत
सूत्रों ने बताया कि निर्वाचन आयोग द्वारा पार्टी के ‘साइकिल’ चुनाव चिन्ह को जब्त किये जाने के स्पष्ट संकेत दिये जाने के बाद पिता पुत्र ने सुलह समझौते का प्रयास किया। बीच का रास्ता निकालने की इस कवायद में पार्टी के कद्दावर नेता मोहम्मद आजम खां समेत कई नेता आगे आये हालांकि मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच मुलाकात का नतीजा अभी तक सामने नहीं आया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के गुरू की भूमिका निभा रहे उनके चाचा प्रो0 रामगोपाल यादव ने भी चुनाव आयुक्त से मिलकर अपना पक्ष रखा था। उन्होंने आयोग से मांग की थी कि साइकिल चुनाव चिन्ह अखिलेश खेमे वाली सपा को दिया जाये। इस मामले में अब फैसला चुनाव आयोग को लेना है। 

-----
लिंक शेयर करें