Breaking News

सेक्‍स ट्वायज के प्रयोग में बरतें सावधानी, नहीं तो होगा नुकसान

एक समय था जब यौन संबंध को जिक्र करने से लोग शरमाते थे पर ऐसा दौर आ गया है। आजकल लोग अपनी सेक्स की आवश्यकताओं को खुले में आसानी से व्यक्त करते हैं। अत: बाज़ार में सेक्स के खिलौने भी मिलने लगे और लोग अपनी यौन जीवन को आनंद दायक बनाने के लिए इन सेक्स टॉयज का उपयोग करने लगे। सेक्स के लिए नियमित तौर पर उपयोग में लाये जाने वाले खिलौनों से स्वास्थ्य को होने वाले नुकसानों के बारे में जानें…!

◆ बार सेक्स टॉयज जैसे दिल्डोस और बट प्लग्स व्यावसायिक तौर पर नहीं बनाए जाते और ये खुरदुरे और तेज़ धार वाले हो सकते हैं जिसके कारण कट आ सकता है, जलन हो सकती है या आपका अंग भी खराब हो सकता है।

◆ यदि आप सेक्स टॉयज को नियमित तौर पर साफ़ नहीं करते हैं (ऐसे टॉयज जिन्हें शरीर में अंदर डाला जाता है) तो शरीर से निकला हुआ तरल पदार्थ उन पर लगा रहता है और इससे संक्रमण हो सकता है।

◆ किसी संक्रमित साथी के साथ सेक्स टॉयज शेयर करने से यौन संक्रमण से होने वाली बीमारियाँ जैसे एचआईवी, हर्पीज़ आदि होने का खतरा बना रहता है।

◆ कुछ पदार्थ जैसे पीवीसी आदि का उपयोग सेक्स टॉयज को बनाने में किया जाता है जिसके कारण कुछ लोगों को एलर्जिक रिएक्शंस हो सकते हैं जिसके कारण रैशेस, जलन और सूजन हो सकती है।

◆ कुछ अध्ययनों से पता चला है कि सेक्स टॉयज बनाने में कुछ ऐसे पदार्थों का उपयोग किया जाता है जिनमें कैंसर उत्पन्न करने वाले कारक होते हैं जिसके कारण इनका उपयोग करने वाले लोगों को कैंसर होने की संभावना हो जाती है।

◆ कई बार ऐसे मामले भी सामने आये हैं जिनमें सेक्स टॉयज जैसे बट प्लग्स और दिल्डोस अंदर फंस गए और उन्हें निकालने के लिए डॉक्टर की सहायता लेनी पडी।

◆ वाइब्रेटर जैसे सेक्स टॉयज का उपयोग करने से शरीर के उस भाग में सुन्नता और स्थाई संवेदनशीलता बढ़ जाती है, विशेष रूप से महिलाओं के क्लाइटोरिस में, जिसके कारण सेक्स का आनंद कम हो सकता है।

-----
लिंक शेयर करें