Breaking News

कैलाश खेर के एक गीत ने इन्‍दौर को बनाया देश का सबसे स्‍वच्‍छ शहर

इंदौर: स्वच्छता से गीत-संगीत का भला क्या सीधा संबंध हो सकता है, लेकिन हर दरवाजे से कचरा जमा करने के लिए दिन-रात चलने वाली करीब 350 छोटी गाडिय़ों पर बजते दो खास गीतों ने इंदौर को देश का सबसे साफ शहर बनाने में अहम भूमिका निभाई है। स्वच्छ सर्वेक्षण..17 के तहत 434 शहरों की स्वच्छता रैंकिंग में पहली पायदान पर पहुंचे इंदौर को साफ रखने के लिए ये गाडिय़ां सड़कों और गली मोहल्लें में लगातार फेरे लगाती रहती हैं। इन गाडिय़ों में सूखा और गीला कचरा अलग-अलग जगह जमा किया जाता है।

धीमी चाल से चलती इन गाडिय़ों पर लगे लाउड स्पीकरों में कैलाश खेर का गाया स्वच्छ भारत का इरादा कर लिया हमने और शान की आवाज में हल्ला..होहल्ला…इंदौर को स्वच्छ बनाना है, अब हमने ये ठाना है बजता रहता है। ये गाडिय़ां दिन भर में इतने फेरे लगाती हैं कि बच्चों से लेकर बड़ों तक को दोनों सफाई गानों के बोल रट गये हैं। दरअसल, 25 लाख की अनुमानित आबादी वाले शहर में इन गीतों का बजना लोगों को संदेश देता है कि कचरा जमा करने वाली गाड़ी उनकी घर, दुकान या प्रतिष्ठान के दरवाजे तक आ पहुंची है।

तिलक नगर क्षेत्र की रहवासी सुलभा शर्मा ने बताया,  सफाई वाहन के आने से पहले ही हम घर का कचरा जमा कर एक थैली में डाल देते हैं। जैसे ही इस गाड़ी पर बजने वाला गीत हल्ला..होहल्ला…हमारे कानों में पड़ता है, हम कचरे की थैली लेकर बाहर निकलते हैं और इसे गाड़ी में डाल देते हैं। इन गाडिय़ों के चलते हमारे लिये कचरे का निपटारा काफी आसान हो गया है।ज्   35 वर्षीय गृहिणी ने मुस्कुराते हुए कहा, च्शान की आवाज वाले सफाई गान के कुछ बोल मेरे तीन साल के बेटे को भी याद हो गये हैं जिन्हें वह अपनी तुतली जुबान मेें दोहराता रहता है।ज्   बहरहाल, इन सुरीले सफाई वाहनों के चलाये जाने के पीछे एक ऐसी व्यावहारिक समस्या है जिससे देश के कई शहर..कस्बे जूझ रहे हैं।

नगर निगम के अपर आयुक्त देवेेेेंद्र सिंह बताते हैं,  पहले हमसे कई लोग शिकायती लहजे में अक्सर सवाल करते थे कि उनके घर या प्रतिष्ठान के पास कचरा पेटी नहीं होने से वे कूड़ा आखिर कहां फेंकें। इसलिये हमने साल भर पहले शहर में छोटी गाडिय़ों के जरिये हर दरवाजे से कचरा जमा करने की मुहिम शुरू की।ज् उन्होंने बताया कि छोटी गाडिय़ों के जरिये सुबह छह से रात 12 बजे तक दो पालियों में कचरा जमा कराया जा रहा है। ये गाडिय़ां पहली पाली में सुबह छह से दोपहर दो बजे तक रहवासी इलाकों से कचरा जमा करती है। इन गाडिय़ों के जरिए दूसरी पाली में दोपहर चार बजे से रात 12 बजे तक वाणिज्यिक क्षेत्रों से कचरा जमा कराया जाता है।
सिंह ने बताया, छोटी गाडिय़ों के जरिए हर दरवाजे सेे कचरा जमा कराने के साथ हमने एक और जरूरी काम किया। हमने शहर से सैकड़ों बड़ी कचरा पेटियां हटवा दीं और इनकी जगह हजारों छोटे डस्टबिन लगवा दिए। बड़ी कचरा पेटियां पूरी तरह भर जाने के बाद काफी गंदगी फैलाती थी, लेकिन अब हम छोटे डस्टबिन को फटाफट खाली करा लेते हैं। उन्होंने बताया कि छोटी गाडिय़ों से जमा कचरे को अलग-अलग चिन्हित जगहों पर खाली किया जाता है। वहां से कचरे को बड़ी गाडिय़ों के जरिए सीधे ट्रेचिंग ग्राउंड पहुंचा दिया जाता है जिससे शहर में सफाई बनी रहती है। अधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार ने जनवरी में इंदौर के शहरी क्षेत्र को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया था।

उन्होंने बताया कि इंदौर को खुले में शौच से मुक्त कराने के लिये नगर निगम ने दो साल पहले अभियान छेड़कर आम लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता बढ़ाई। इसके साथ ही, 12,549 एकल शौचालय बनाए गए, 174 सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालयों की हालत दुरस्त की गई और 17 चलित शौचालय खरीदे गए। उन्होंने बताया कि नगर निगम ने पिछले दो साल में सुलभ इंटरनेशनल संस्था की मदद से 61 नए सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण भी कराया।

-----
लिंक शेयर करें