Breaking News

निर्दल विधायक जसबीर देशवाल के यहां मिली 8 करोड़ नकदी, दो करोड़ की ज्‍वेलरी मिली

जींद : हरियाणा । जींद के सफीदों से निर्दलीय विधायक जसबीर देशवाल के निवास स्थानों पर बीते दिनों छापेमारी में आयकर विभाग की टीम ने 8 करोड़ रुपए बरामद किए है। 25 अप्रैल को आयकर विभाग की 40 गाडिय़ों में आए अधिकारियों ने विधायक के ठिकानों पर छापेमारी की थी। छापेमारी में क्या कुछ बरामद हुआ इसका खुलासा आज आयकर विभाग ने कर दिया है। न्यूज एजेंसी एएनआई के हवाले से जारी हुई खबर में बताया गया है कि आयकर विभाग ने जसबीर देशवाल के ठिकानों से 8 करोड़ रुपए कैश और दो करोड़ रुपए की ज्वैलरी बरामद की।

छापेमारी के दौरान विधायक नहीं थे घर पर
जिस समय आयकर विभाग की टीम सफीदों पहुंची, उस समय विधायक घर पर नहीं थे। विधायक देशवाल ने प्रदेश की भाजपा सरकार को समर्थन दे रखा है। छापेमारी के कारणों का अभी तक स्पष्ट कारणों का पता नहीं चल पाया है। इसे नोटबंदी से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

40 गाडिय़ों में सवार होकर आए थे आयकर अधिकारी
आयकर विभाग के अधिकारी मंगलवार सुबह लगभग 40 गाडिय़ों में सवार होकर विधायक के सफीदों के व्यापारिक और आवासीय संस्थानों पर छानबीन करने पहुंचे। इसी दौरान जींद और राजस्थान में रेड डाली गई। सफीदों में लगभग एक दर्जन स्थानों और जींद के तीन स्थानों के अलावा राजस्थान के कार्यालयों में भी छानबीन की गई। टीम ने कुछ ही देर में विधायक के आवास शंकर भवन, उनके रिश्तेदार और पार्टनर स्काइलार्क ग्रुप के एमडी जगबीर ढुल के आवास को भी कब्जे में ले लिया।

भारी पुलिस बल के साथ पहुंची टीम को देखकर शहर में हड़कंप मच गया। स्काइलार्क ग्रुप के खेड़ा खेमावती गांव में स्थित मुख्य कार्यालय स्काईलार्क फीड मिल, शंकर भवन, सीता श्याम कालोनी स्थित स्काईलार्क एमडी जगबीर ढुल का आवास, स्काईलार्क हैचरी उरलाना, स्काइलार्क इक्वीपमेंट आंटा, स्काईलार्क फार्म, स्काईलार्क हैचरी के जींद स्थित कार्यालय, स्काइलार्क हैचरी पार्टनर सुरेंद्र ढुल का आवास, मैटीस स्कूल एवं कॉलेज अंटा, विधायक के भतीजे आढ़ती संजय देशवाल की दुकान, स्काइलार्क फीड राजस्थान, विधायक के पुत्र एडवोकेट जितेंद्र देशवाल के आवास पर भी छापेमारी की।

किसी को नहीं आने-जाने दिया
आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी के दौरान सभी संस्थानों को कब्जे में ले लिया। इसके बाद किसी बाहरी व्यक्ति को अंदर नहीं जाने दिया। दिनभर टीम ने आवास और व्यापारिक संस्थानों पर रखे कागजातों की जांच पड़ताल की।

-----
लिंक शेयर करें