Breaking News

निर्भया गैंगरेप: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मां के छलके आंसू

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने राजधानी के निर्भया गैंगरेप के मामले में चारों दोषियों की फांसी की सजा आज बरकरार रखी। वहीं पीड़िता के परिजनों ने कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। पीड़िता की मां आशा देवी ने कहा कि कोर्ट के इस फैसले से उनकी बेटी को इंसाफ मिला है। हम सबको इंसाफ मिला है, लेकिन बेटी को खोने का मलाल सब दिन रहेगा। उन्होंने कहा, ‘हमारी कानून व्यवस्था थोड़ी लचर जरूर है, लेकिन आज मैं मानती हूं कि कानून में देर हैं, लेकिन अंधेर नहीं है।’ निर्भया के पिता ने कहा कि कोर्ट के इस फैसले से पूरे देश की बेटी को इंसाफ मिला है। न्याय देने के लिए कोर्ट का शुक्रिया।

 

उन्होंने कहा कि वे इस फैसले से पूरी तरह संतुष्ट हैं। फैसले के दौरान निर्भया के माता-पिता कोर्ट में मौजूद थे। बता दें कि साल 2012 में 16 दिसंबर की रात को 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के साथ दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में जघन्य तरीके से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था और उसे उसके एक दोस्त के साथ निर्वस्त्र बस से बाहर फेंक दिया गया था। अगली सुबह इस कांड ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था। न्याय के लिए लोग सड़कों पर उतर आए थे। इस कांड को निर्भया नाम दिया गया। निर्भया की जिंदगी बचाने के लिए उसे सिंगापुर में एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया लेकिन 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में वो जिंदगी की जंग हार गई लेकिन कोर्ट से उसे न्याय मिला।

-----
लिंक शेयर करें