Breaking News

शादी कहकर ले गया : फिर करवाया महिला से यह गलत काम

अमृतसर । दुष्कर्म मामले में थाना सी-डिवीजन की पुलिस ने पीड़िता को न केवल न्याय दिलवाने का प्रयास किया, अपितु इस केस की रूपरेखा बदलते हुए इसे एक व्यक्ति के दुष्कर्म के मामले को सामूहिक गैंगरेप की तस्वीर दी। जानकारी के अनुसार कोमल (24) काल्पनिक नामक युवती ने थाना सी-डिवीजन में शिकायत की थी कि उसके साथ सामूहिक तौर पर दुष्कर्म हुआ है । इस दुष्कर्म के मामले में उसे एक व्यक्ति बहला-फुसला कर ले गया था और उसने अपने भाई के साथ शादी करवाने का वायदा किया था। इसके चलते पहले लड़की को शक्ति नगर स्थित एक घर में ले जाया गया, जहां पर महिला भी थी। वहां उससे दोनों भाइयों ने दुष्कर्म किया। इसके उपरांत जब लड़की ने उस महिला से आपत्ति की कि उसके साथ उसके घर में ही दुष्कर्म हुआ है, पर आरोपी महिला ने कहा कि तुम्हारी जिंदगी बनने वाली है, कोई बात नहीं यह मामूली बात है।

पीड़ित महिला ने अपनी शिकायत में कहा था कि उसे इस दुष्कर्म के उपरांत जीरकपुर ले जाया गया जहां पर उक्त भाइयों के अतिरिक्त अन्य लोगों ने भी उसके साथ दुष्कर्म किया। हालांकि उसकी इच्छा अपना घर बसाने की थी और वह इन लोगों के बहकावे में आ गई, किन्तु बाद में उसकी बोली लगने लगी और दुष्कर्म होते रहे। बदलते घटनाक्रम में आरोपियों ने उसे 2 लाख रुपए में बेचने का प्रयास किया। महिला ने अपने बयान में कहा था कि जब उसे पता चला कि वह लोग उसे ऐसे नर्क में ले जा रहे हैं, जहां पर वह एक घरेलू औरत नहीं, बल्कि एक पेशेवर औरत बन जाएगी तो वह सहम गई और किसी तरीके से वहां से भाग निकली। पीड़ित महिला ने बताया कि उसे उन्हीं लोगों में से एक ने कहा था कि जहां पर उसे भेजा जा सकता है वहां से कोई महिला फिर वापिस नहीं आई और नशों का शिकार बनती, वहीं की होकर रह जाती है। बस यहीं से महिला ने महसूस किया कि जिस नए घर के वह सपने देखने जा रही है, उनका पाला पेशेवर लोगों से पड़ गया है और वह इस जाल से भाग निकली।

सिंगल दुष्कर्म का मामला कैसे बना गैंगरेप?
इस संबंध में पीड़ित महिला ने सीधा-सीधा आरोप लगाया था कि उससे गैंगरेप किया गया है। इस मामले में 5 लोग आरोपी हैं, जिन्होंने उसे फंसा कर कई माह तक गैंगरेप किया जो लम्बे समय तक होता रहा। इसमें कोटमित्त सिंह, शक्ति नगर व जीरकपुर में भी उसे कई लोगों के सामने परोसा गया, किन्तु हैरत की बात है कि मात्र एक व्यक्ति को इसमें आरोपी बनाया गया है और एफ.आई.आर. दर्ज कर दी, बाकी लोगों को बचाने के लिए पुलिस ने यह ढोंग रचा है। इस मामले में पीड़ित महिला के साथ कई संस्थाएं शामिल हो चुकी थीं, जो इस सिंगल रेप को गलत बताते हुए इस पर गैंगरेप की धाराएं जोडऩे के लिए दबाव बना रही थीं। आखिरकार पुलिस ने वास्तविकता को मानते हुए गैंगरेप का केस दर्ज किया। पुलिस द्वारा केस में बढ़ाई धाराओं के साथ-साथ जिन 4 लोगों को और शामिल किया गया है, उनमें अनूप सिंह उर्फ नूपा, गुरप्रीत सिंह उर्फ गोरा, राधा, मनप्रीत कौर शामिल हैं। उक्त आरोपियों के विरुद्ध पुलिस ने कई स्थानों पर छापामारी की, किन्तु अभी तक आरोपी पुलिस का पकड़ से दूर बताए जाते हैं।

-----
लिंक शेयर करें