Breaking News

फ्रांस के जीरो साइज माडलों में हो रहीं बीमारियां : लगाया गया बैन

फैशन शो के दौरान अक्सर दुबली-पतली मॉडल्स (जीरो साइज वाली) ही रैंपवॉक करती नजर आती हैं क्योंकि जीरो फिगर वाली इन महिलाओं को ही म़ॉडलिंग के लिए प्रफैक्ट माना जाता है लेकिन यह मॉडल्स अब फ्रांस में दिखाई नहीं देंगी क्योंकि फ्रांस में नए कानून के तहत जीरो फिगर मॉडल्स के प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई है। इस प्रतिबंध के अनुसार, ज़रूरत से ज़्यादा पतली मॉडल अब फ़ैशन इवेंट में हिस्सा नहीं ले पाएंगी। इतना ही नहीं, मॉडल्स को डॉक्टर से प्रमाणित किया गया सर्टिफ़िकेट देना होगा, जिसमें उनकी सेहत से जुड़ी हर जानकारी का ब्यौरा होगा। इस प्रमाण पत्र में बॉडी मास इंडेक्स (BMI) को खास अहमियत दी गई है, जिसमें हर इवेंट के दौरान मॉडल की उचित लंबाई और वजन की जांच की जाएगी।

हालांकि इस कानून के पुराने संस्करण में बीएमआई का जिक्र था लेकिन इसके बावजूद ऐसी मॉडल्स का प्रदर्शन जारी था लेकिन अब इस कानून का उल्लंघन करने वाली मॉडलिंग एजेंसियां एवं कंपनियों को 75 हजार यूरो के जुर्माने के साथ 6 महीने तक की जेल भी हो सकती है। आपको बता दें कि ऐसी मॉडल्स पर बैन करने वाला फ्रांस कोई पहला देश नहीं है बल्कि इटली, स्पेन और इजराइल में भी इसी तरह के कानून लागू हैं।

PunjabKesari

दरअसल, फ्रांस द्वारा बनाए गए इस नए कानून का उद्देश्य एनोरेक्सिया (Anorexia) नाम की बीमारी से लड़ना है। फ्रांस में एनोरेक्सिया से ग्रस्त लोगों की संख्या लगभग 30 से 40 हजार है, जिसमें से 90 फीसदी महिलाएं ही शामिल हैं। फ्रांस सरकार में सामाजिक मामलों एवं स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से दिए गए ब्यानों के अनुसार, इस नए कानून का उद्देश्य खाने के विकार और सौंदर्य के दुर्गम आदर्शों से लड़ना है। इसी के साथ अब डिजिटल में बेहतर बनाई गई तस्वीरों पर लेबल लगाना भी जरूरी होगा। क्योंकि डिजीटल में बेहतर बनाई झूठी तस्वीरें युवा लोगों को डिप्रैशन का शिकार और आत्मविश्वास को चोट पहुंचाती हैं। इन मॉडल्स को देखकर युवा इन्हें आदर्श मानते हैं और देखा देखी ही उनकी तरह बनने की कोशिशों में लग जाते हैं।
क्या है एनोरेक्सिया?
यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें रोगी को भूख नहीं लगती। इसे अरुचि रोग कहते हैं। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति 1 या 2 ग्रास (निवाला) से ज्यादा नहीं खा पाता। इस रोग से प्रभावित होने पर व्यक्ति धीरे-धीरे कमजोर होने लगता है और उसकी कार्यक्षमता पर भी असर पड़ता है।
क्यों होती है ये बीमारी?
यह बीमारी लगातार भूखे रहने से होती है। मॉडल्स भी जीरो फिगर पाने के लिए काफी लंबा टाइम भूखे रहती हैं। इसी के चलते कई मॉडल्स मर भी चुकी हैं। फैशन के लिए फेमस फ्रांस की 18 साल की मॉडल इसाबेल कारो भी इसी बीमारी के चलते मौत की नींद सो चुकी है।

-----
लिंक शेयर करें