Breaking News

केजरीवाल के साढ़ू की मौत को माना संदिग्‍ध : थाने में दी अर्जी

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी से निलंबित नेता कपिल मिश्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के जिस साढ़ू सुरेंद्र बंसल पर गड़बड़ी करने के आरोप लगाया था उन्ही की सोमवार को मौत हो गई। बताया जा रहा है कि दिल का दौरा पडऩे से मेदांता में उनका देहांत हुआ। बंसल की अंतिम यात्रा में अरविंद केजरीवाल भी शामिल हुए थे। मामले में नया मोड़ तब आया, जब आईपी स्टेट थाने में उनकी मृत्यु को संदेहास्पद करार देते हुए इसकी जांच के लिए अर्जी दी गई है।

 विप्लव अवस्थी ने दी है शिकायत
शिकायतकर्ता  PWD घोटाले को उजागर करने वाले पत्रकार विप्लव अवस्थी ही हैं। अपनी शिकायत में उन्होने लिखा है कि 22 फरवरी पर मुझपर हुए हमले और सुरेंद्र कुमार बंसल की संदेहपूर्ण परिस्थितियों में हुई मौत के पीछे किसी तीसरे शख्स का हाथ है। कपिल मिश्रा ने अरविंद केजरीवाल पर इन्ही साढ़ू को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया था।

क्या है पूरा मामला ?
दिल्ली की एक एनजीओ रोड एंटी करप्शन ऑर्गेनाइजेशन ने आरोप लगाया कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने साल 2014 से लेकर 2016 के बीच में अपने साढ़ू सुरेंद्र कुमार बंसल को नियमों को ताक पर रखते हुए ठेका दिलाया। जिसके तहत सिर्फ कागजों पर काम दिखाया गया और इसके एवज में करोड़ों का गड़बड़ घोटाला किया गया। रोड एंटी करप्शन ऑर्गेनाइजेशन नामक एनजीओ से ही जुड़े पत्रकार विपल्व अवस्थी ने मीडिया को बताया कि इस मामले में 150 से ज्यादा आरटीआई डाली जा चुकी है लेकिन किसी का जवाब नहीं दिया गया।

कैसे हुआ फर्जीवाड़ा ?
एनजीओ ने आरोप लगाया कि अरविंद केजरीवाल के साढ़ू ने रेणू कंस्ट्रक्शन के नाम से फर्जी कंपनी बनाई। रेणू कंस्ट्रक्शन ने दिखाया कि कंपनी ने महादेव इम्पेक्स से सामान खरीदा। जबकि महादेव इम्पेक्स ने सेल टैक्स को जानकारी दी है कि न तो उन्होने किसी को माल बेचा, न ही किसी के साथ कारोबार किया। इससे साफ हो रहा है कि सारा काम सिर्फ कागजों पर हुआ है। न तो किसी नाले का निर्माण हुआ और न ही कोई बड़ा कंस्ट्रक्शन, फिर सरकारी फंड का भुगतान कहां किया जा रहा था। फिलहाल ये मामला जांच के दायरे में हैं। जांच के बाद ही साफ हो पाया कि वास्तिविकता में कितना काम हुआ और कितना घोटाला हुआ। लेकिन एनजीओ के आरोपों से ये तो साफ है कि अरविंद केजरीवाल बड़ी मुश्किल में पडऩे वाले हैं।

-----
लिंक शेयर करें