Breaking News

दबंग युवकों की छेड़खानी के चलते‍ गड़सरपार में बिगड़ा माहौल

– गांव में वैवाहिक समारोह में आई युवतियों से छेड़खानी करते रहे दबंग

– छेड़खानी करने वालों को समझाने की बजाय उकसाते रहे दबंग

संतकबीरनगर। न्‍यूज केबीएन

कोतवाली खलीलाबाद क्षेत्र के गड़सरपार गांव में माहौल बिगाड़ने के पीछे छेड़खानी का मामला ही सामने आ रहा है। गांव के वैवाहिक समारोह में आई कुछ युवतियों के साथ वहां के दबंगों ने छेड़खानी की थी। इसी को लेकर गांव में माहौल बिगड़ गया। छेड़खानी करने वाले दबंगों को समझाने की बजाय उनको उकसाने का काम करते रहे।

गांव के लोग नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि गांव के ही निवासी रामऔतार चौरसिया के यहां गत 9 मई को शादी थी। शादी के दिन बारात आते समय भी गांव के इन दबंग और अराजक युवकों ने बारात में आए लोगों के साथ दुर्व्यवहार किया था। अराजक तत्‍व वहीं तक नहीं माने। उन्‍होने तो बारात के जेनरेटर को ही बन्‍द कर दिया था। गांव के अन्‍य लोगों ने उस समय मामले को शान्‍त कराया था। इस बात की शिकायत मुकामी पुलिस से मौखिक रुप से की गई थी। पुलिस ने डाटने की बात कही थी। बात वहीं समाप्‍त हो गई। 11 मई की दोपहर में इस परिवार में शादी के लिए मुम्‍बई से आई युवतियां खरीदारी करने के लिए गई हुई थीं। उन युवतियों में से एक युवती अपने पति के साथ शाम 3 बजे खरीदारी करके लौट रही थी और दो महीने की गर्भवती थी। उसको देखकर वहीं पर मजार के पास खड़े दबंगों फखरु, बांके के लड़के, बबलू पुत्र आमिर, नदीम पुत्र मोबीन, मोहम्‍मद अली पुत्र सुभान आदि ने छेड़खानी की। वह भी तब जब उसका पति उसके साथ था। जब उसने प्रतिरोध किया तो वे दबंग उसके साथ मारपीट पर आमादा हो गए। गर्भवती युवती और उसके पति के साथ हाथापाई शुरु हो गई। यह देखते हुए चौराहे पर दुकान चलाने वाले पिता- पुत्र के साथ ही साथ दूसरे समुदाय के अन्‍य लोगों ने भी पहुंचकर बीच बचाव किया। इसके बाद भी दबंग धमकाते रहे। इसी बीच गांव में नेतागिरी करने वाले कुछ अराजक तत्‍वों ने एक बार फिर छेड़खानी करने वाले युवकों को शह देना शुरु कर दिया। वहीं जब घर पहुंचकर दामाद और बेटी ने यह बात बताई तो उसके घर के लोग काफी आक्रोशित हो गए। इसके बाद मामले से मुकामी पुलिस को अवगत कराने की बात करने लगे। इसके बाद जब शाम 6.30 जब उस परिवार के मुखिया अपने लोगों के साथ शिकायत करने के लिए उन दबंग मनचलों के घर जा रहे थे। उन लोगों ने जब मनचले युवकों के परिवार के लोगों से शिकायत की तो दबंगों को शह देने वाले उनके संरक्षक व परिवार के लोग उनके उपर टूट पड़े। उन्‍हें पिटता देख दूसरे पक्ष से आए उनके परिवार के लोगों ने भी प्रबल प्रतिरोध किया। नतीजा यह हुआ कि दोनों पक्षों में जमकर संघर्ष हुआ। संयोग यह था कि पुलिस तुरन्‍त ही सतर्क हो गई और नतीजा यह हुआ कि जिला एक बार जलने से बच गया।

नीचे की खबर पढ़ने के लिए लाल बटन दबाएं…

 संतकबीरनगर में दो पक्षों में संघर्ष, तनाव

जिसने छेड़खानी से बचाया उसको भी मामले में फंसाया

बताया जाता है कि गड़सरपार चौराहे पर शाम 3 बजे के करीब जब ये दबंग युवक छेड़खानी कर रहे थे। उस दौरान वहीं पर किराने की दुकान चलाने वाले बैजनाथ सिंह व उनके पुत्र अरुण कुमार सिंह ने मामले की नजाकत को देखते हुए उन सभी लोगों को वहां से छुड़ाया और मामले को बढ़ने से बचाया। दोनों पक्षों को वहां से वापस भेजा। नतीजा यह हुआ कि मामला उस समय बिगड़ने से बच गया था। लेकिन गांव के कुछ लोगों को यह नागवार लगा। उन लोगों ने फिर इस मामले को तूल देने की कोशिश की और वे उन लड़कों को फिर भड़काने का प्रयास करने लगे। अपने मंसूबों में वे सफल भी हो गए होते। लेकिन पुलिस की सतर्कता से मामला बिगड़ने से बच गया। लेकिन इस मामले में उन पिता और पुत्र को फंसा दिया जिन्‍होने दोपहर में बीच बचाव का प्रयास किया था।  जबकि तहरीर देने वाला खुद कह रहा है कि वे लोग इस मामले में शामिल नहीं थे।

नोट – छेड़खानी की शिकार युवती की फोटो न्‍यूज केबीएन के पास है। लेकिन सामाजिक कारणों से उसकी फोटो को प्रकाशित नहीं किया जा रहा है।

-----
लिंक शेयर करें