Breaking News

खलीलाबाद से मगहर तक बिना गार्ड के ही चली गई ट्रेन

– मोटरसाइकिल से गार्ड साहब को भेजा गया मगहर

– काफी देर तक रुकी रही मगहर रेलवे स्‍टेशन पर

संतकबीरनगर। न्‍यूज केबीएन

गोण्‍डा से चलकर गोरखपुर को जाने वाली पैसेन्‍जर ट्रेन शनिवार को खलीलाबाद रेलवे स्‍टेशन से मगहर रेलवे स्‍टेशन तक बिना गार्ड के ही चली गई। स्थिति यह थी कि गार्ड साहब को मोटरसाइकिल से मगहर भेजा गया। गार्ड साहब वहां पर पहुंचे तब जाकर ट्रेन वहां से आगे रवाना हो सकी।

News kbn, train, guard nerailway

मगहर में गार्ड के इन्‍तजार में खड़ी ट्रेन

गोण्‍डा से चलकर गोरखपुर जाने वाली पैसेन्‍जर ट्रेन संख्‍या 55026 को खलीलाबाद रेलवे स्‍टेशन पर सुबह 7 बजकर 38 मिनट पर आना था। लेकिन वह 1 घण्‍टा 26 मिनट लेट होकर सुबह 9 बजकर 4 मिनट पर खलीलाबाद रेलवेस्‍टेशन पहुंची। वहां से सुबह 9 बजकर 6 मिनट पर ट्रेन रवाना हुई तो पूर्वी केबिन के पास चैनपुलिंग हो गई। ड्राइवर और गार्ड ने मिलकर चैनपुलिंग को 3 मिनट में सही कर लिया। इसके बाद ड्राइवर इन्‍जन में चला गया और गार्ड साहब अपनी बोगी की तरफ। रास्‍ते में चलते चलते ही उन्‍होने ट्रेन को आगे बढ़ने के लिए कह दिया। लेकिन अपना डिब्‍बा आने पर वे ट्रेन में चढ़ नहीं सके और ट्रेन आगे बढ़ गई। ट्रेन का ड्राइवर धीरे धीरे ट्रेन को लेकर 9 बजकर 25 मिनट पर मगहर पहुंचा। इधर गार्ड साहब असमंजस में पड़े हुए थे। तभी एक व्‍यक्ति ने उनकी परेशानी को समझते हुए उन्‍हें अपनी मोटरसाइकिल पर लिफ्ट देकर मगहर पहुंचाया। मगहर रेलवे स्‍टेशन पर जब ट्रेन में गार्ड साहब सवार हुए तब जाकर ट्रेन 9 बजकर 31 मिनट पर अगले गन्‍तव्‍य के लिए रवाना हो पाई। चुरेब से लेकर खलीलाबाद तक ट्रेन की स्‍पीड 96 किलोमीटर प्रति घण्‍टा रही। जबकि खलीलाबाद से मगहर तक 37 किलोमीटर प्रति घण्‍टा रही।

डॉ अशोक कुमार पाण्‍डेय, यात्री

 असमंजस में थे सभी यात्री

ट्रेन में यात्रा कर रहे शिक्षक डॉ अशोक कुमार पाण्‍डेय बताते हैं कि जब मगहर में पहुंचकर हमें इस बात की सूचना मिली कि ट्रेन में गार्ड साहब हैं ही नहीं तो सभी लोग असमंजस में पड़ गए। गार्ड साहब से सम्‍पर्क करने का प्रयास किया जाने लगा। तभी 5 मिनट में एक व्‍यक्ति की मोटरसाइकिल से गार्ड साहब हांफते हुए पहुंचे। तब जाकर हमारी ट्रेन गोरखपुर के लिए रवाना हो पाई।

-----
लिंक शेयर करें