Breaking News

नरेश अग्रवाल पर बिफरे लोग : सोशल मीडिया पर चले शब्‍दबाण

गोरखपुर, संतकबीरनगर । न्‍यूज केबीएन

हिन्‍दू देवी देवताओं का मजाक उड़ाने वाले नरेश अग्रवाल के खिलाफ लोगों में गुस्‍सा है। लोग उनकी बातों पर इस कदर नाराज है कि सोशल मीडिया पर उनकी जमकर आलाेचना कर रहे हैं।

संतकबीरनगर के दिलीप त्रिपाठी ने लिखा है कि …….

पाला बदलने में माहिर नरेश अग्रवाल किस स्तर के राजनेता है कुछ उदाहरण आप के सामने रखता हूँ इस व्यक्ति ने सिर्फ व्यतिगत स्वार्थ के लिये ,कांग्रेस को 1997 में तोड़ के लोकतांत्रिक कांग्रेस बनाई उसके बात सब घाट का पानी पिया …

मई 2008- कभी मायावती को देश का कर्णधार बताया था
नरेश अग्रवाल जब बसपा में शामिल हुए थे तो उन्होंने कहा था, ” अब पूरा राजनीतिक जीवन बहन जी को अर्पित कर रहा हूं। मेरे बाद मेरा बेटा उनके साथ रहेगा। मायावती भावी पीएम ही नहीं, बल्‍कि देश की कर्णधार हैं। उनकी कथनी-करनी में कभी अंतर नहीं रहा।

30 दिसंबर 2011- मुलायम सिंह को सीएम बनाकर ही चैन लूंगा
उन्‍होंने कहा कि ” अब जाकर राजनीतिक रूप से स्वतंत्र हुआ हूं। जबतक मुलायम सिंह यादव को सीएम नहीं बना लेता, चैन से नहीं बैठने वाला। जो गलती हुई उसके लिए क्षमा चाहता हूं। नेताजी आपका ऋण अदा करुंगा।

और जब सपा में नेता जी का युग ख़त्म हो गया तो बोले
सपा में चल रहे विवाद के बाद उन्‍होंने कहा कि ” ऐसा नहीं है कि जो नेता जी कहेंगे वही होगा। आखिर डेमोक्रेसी नाम की भी कोई चीज होतीहैं। अखिलेश यादव हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तो फिर नेताजी के पास हमें निकालने का उन्‍हें कोई अधिकार नहीं रह गया। मुलायम सिंह मोदी की तारीफ न कर अपने बेटे (अखिलेश यादव) की तारीफ करें।

ऐसे दोगले नेताओ का कोई भरोसा नहीं की सिर्फ राजनीति को चमकाने के लिये किस स्तर तक गिर सकते है

ज्ञानी से ज्ञानी मिले,मिले नीच से नीच
पानी से पानी मिले,मिले कीच से कीच

अन्‍य लोगों ने यह की है पोस्‍ट : पढ़ें

 

-----
लिंक शेयर करें