Breaking News

तुर्की में रुस के राजदूत की गोली मारकर हत्‍या

अंकारा ( तुर्की )
तुर्की की राजधानी अंकारा में एक हमलावर ने रुस के राजदूत आन्‍द्रेई कार्लोव की गोली मारकर हत्‍या कर दी। हमलावर ने 8 गोलियां दागी। मारने के बाद उसने ‘अल्ला-हू-अकबर’ के नारे लगाए। ये भी कहा- “अलेप्पो को मत भूलना! सीरिया को मत भूलना! हम लोग अलेप्पो में मरेंगे और तुम लोग यहां।” शूटआउट के तुरंत बाद ही पुलिस ने हमलावर को मार गिराया। इस बीच रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन ने कहा- “हत्यारों को इसका अहसास होगा।

तुर्की की राजधानी अंकारा में राजदूत की हत्‍या के बाद हथियार लहराता हुआ युवक

 घटना के आईविटनेस रहे एजेंसी एपी के फोटोग्राफर की मानें तो कार्लोव एक एग्जीबिशन में स्पीच दे रहे थे। तभी हमलावर ने उनपर 8 गोलियां चलाई। तुर्की के इंटीरियर मिनिस्टर सुलेमान सोयलू के मुताबिक, हमलावर की पहचान मेवलुट मर्ट अल्टिनटास के रूप में हुई है। वह खुद अंकारा में दंगाविरोधी पुलिस में था। सोयलू ने बताया, “अल्टिनटास (22) 1994 में पैदा हुआ था। पुलिस में काम करते हुए 2 साल हो चुके थे।”  अल्टिनटास ने कार्लोव को किसलिए मारा, ये सोयलू ने नहीं बताया।
 फोटोग्राफर के मुताबिक, अल्टिनटास कार्लोव के पास लेटकर पहुंचा। उसने मौत को कन्फर्म करने के लिए पास से भी गोली चलाई। लोगों को डराने के उसने दीवार पर लगी कई फोटो को तोड़ा। तुर्की के एनटीवी टेलीविजन के मुताबिक, हादसे में तीन अन्य लोग घायल हो गए।
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अल्टिनटास बिल्डिंग की दूसरी मंजिल पर चढ़ गया। शूटआउट के 15 मिनट बाद उसे मार दिया गया।

हत्‍यारों को होगा इसका एहसास – पुतिन
रुस के राष्‍ट्रपति पुतिन के मुताबिक, “हत्यारों को इसका अहसास होगा कि उन्होंने क्या किया है। हमले को लेकर रूस का यही रिएक्शन होगा कि हम टेररिज्म के खिलाफ और तेजी से लड़ेंगे। रूसी एम्बेसडर पर हमले का सीधा सा मकसद हमारे और तुर्की के रिलेशन को और सीरिया में हालात को बिगाड़ना है। रूस, तुर्की, ईरान और बाकी देश सीरिया में शांति बहाल करना चाहते हैं।”

आंद्रेई कार्लोव 2013 से थे राजदूत
आंद्रेई कार्लोव ने 1976 में डिप्लोमैटिक सर्विस ज्वाइन की थी। 2001-06 तक वे नॉर्थ कोरिया में एम्बेसडर रहे। बाद में वे विदेश मंत्रालय के काउंसलर डिपार्टमेंट में चीफ रहे। 2013 से अब तक वे तुर्की में एम्बेसडर थे।

-----
लिंक शेयर करें