Breaking News

झरनों से भरी आकर्षक है यह जगह, मोह लेती है मन

परिवार या अपने पार्टनर के साथ घूमने का प्लान बनाते वक्त हर कोई ऐसी जगह जाना चाहता है जो प्रकृतिक नजारों से भरपूर हों। अगर आप भी ऐसी ही कोई जगह घूमने का प्लान कर रहें है तो आपके लिए बैस्ट हैं ये जगहें, जो अपनी खूबसूरती के लिए जाने जाते हैं। कर्नाटक के इन जगहों की खास बात यह है कि यहां पर आपको प्रकृतिक नजारों के साथ-साथ देखने के लिए बहुत से झरने है। यहां चारों तरफ छाई हरियाली और भरपूर बारिश के कारण मौसम हमेशा सुहाना बना रहता है।

1. मुल्लियान गिरि
ये पर्वत कनार्टक का सबसे ऊंचा पर्वत है। इस पर्वत की खास बात कुरुंजी नामक पौधा है। 12 साल में एक बार ही इस पौधे पर फूल खिलता है। वेस्टर्न घाट पर बने इस पर्वत पर जाने वाले ट्रैक पर पर्वतों का अनोखा नजारा देखने को मिलता है। इसके अलावा यहां पर देखने के लिए आपको खूबसूरत वाटर फॉल्स शिवान, कावेरी नदी मिलेगी जोकि बहुत तेज अवाज के साथ पहाड़ से निचे गिरती है।

2. जॉग वाटर फॉल्स
शारावती नदी पर स्थित जॉग वॉटर फॉल्स भारत का दूसरा सबसे ऊंचा झरना है। इसकी ऊंचाई 830 फीट है। इस झरने पर से आपको प्रकृतिक नजारें भी देखने को मिलेंगे। इसके अलावा यहां से थोड़ी दूरी पर आपको केलाथगिरि फॉल्स देखने को मिलेगा जोकि बहुत ही सुंदर है। यहां पर बने मंदिरों को सांस्कृतिक और ऐतिहासिक धरोहरों के लिए खास तौर से जाना जाता है।

3. केम्मानगुंडी
कनार्टक की ये जगह अपनी खूबसूरती और शांत झरनों के लिए मशहूर है। इसके अलावा इस जगह को खासतौर पर कॉफी के लिए जाना जाता है। यहां से आप फ्रैश कॉफी खरीद सकते है।  कॉफी के अलावा यहां पर स्थानीय मसाले, जैम, अचार, चटनी आदि खरीद सकते हैं।

4. कल्लाट गिरी फॉल्स
यहां पर मौजूद मंदिर झरनों के बहुत ही पास में बने हुए है जिसके कारण मंदिर बहुत ही अद्धभुत दिखते है। यहां पर आप अपने परिवार के साथ अराम से रुक सकते है। पहाड़ी पर से गिरते हुए इस झरने का पानी दूध जैसा लगता है। इस झरने का बहाव हमेशा ही तेज रहता है और इसका पानी भी एक दम साफ और मीठा होता है।

5. बिद्रिवेयर आर्ट्स बाजार
कनार्टक की इस मार्किट से आप अपने घर की सजावट के लिए बहुत सा समान खरीद सकते है। यहां पर तांबे, जिंक के जेवर, बक्से और थाल पर नक्काशी करके उनमें सोने और चांदी से कलाकारी की जाती है। ये चीजें अपको यहां पर सही मूल्य में मिल जाएगी। यहां पर मिलने वाला चंदन और चंदन पाउडर भी बहुत फेमस है।

6. कैसे पहुंचें
मुल्लियान गिरि चिकमंगलूर नामक शहर से 25 किलोमिटर दूर है। बेगलूरु से इसकी दूरी 250 किलोमिटर है। इन दोनों शहरों से आप यहां तक पहुंचने के लिए टैक्सी या बस ले सकते है। इसके अलावा यहां पर ठहरने के लिए आपको होटल, रिजॉर्ट, होम स्टे और ईको कैम्प भी अराम से मिल जाएंगे। इस जगह पर जाते वक्त आप रास्ते में प्रकृतिक नजारों का मजा ले सकते है।

-----
लिंक शेयर करें