Breaking News

डॉ उदय चतुर्वेदी के नेतृत्‍व में कोरोना के खिलाफ लड़ने वालों का घण्‍ट, शंख, ढोलक, ताली व थाली के साथ स्‍वागत

  • प्रधानमन्‍त्री नरेन्‍द्र मोदी के आह्वान पर स्‍वत: स्‍फूर्त ढंग से किया स्‍वागत
  • परिजनों के साथ परिसर में काम करने वाले झारखण्‍ड के मजदूर भी शामिल

संतकबीरनगर , न्‍यूज केबीएन ।

प्रधानमन्‍त्री नरेन्‍द्र मोदी के कोरोना वारियर्स के स्‍वागत के आह्वान पर सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी के नेतृत्‍व में जीपीएस पीजी कालेज के पास स्थित उनके आवास के सामने शंख, घण्‍टी, ताली और थाली बजाकर स्‍वागत किया गया। इस दौरान एकेडमी की प्रबन्‍ध निदेशक श्रीमती सविता चतुर्वेदी ने खुद तकरीबन 10 मिनट तक लगातार ढोलक बजाकर कोरोना वारियर्स का स्‍वागत किया।

डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी के नेतृत्‍च में कोरोना वारियर्स का कुछ इस तरह से किया गया स्‍वागत

प्रधानमन्‍त्री नरेन्‍द्र मोदी ने जनता कर्फ्यू के दौरान शाम 5 बजे से लगातार 5 मिनट तक थाली बजाकर व शंखध्‍वनि करके तथा अन्‍य माध्‍यमों से कोरोना वारियर्स ( कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाले चिकित्‍सकों, स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों, सफाई कर्मियों, प्रशासन व पुलिस के लोगों व मीडिया ) का स्‍वागत करने का आह्वान किया था। इस आह्वान का अनुपालन करते हुए डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी अपनी पत्‍नी श्रीमती सविता चतुर्वेदी, पुत्री सरगम चतुर्वेदी, पुत्र अखण्‍ड प्रताप चतुर्वेदी के साथ ही परिसर में काम कर रहे झारखण्‍ड के मजदूरों तथा शुभी देवी महाविद्यालय के प्राचार्य चिन्‍तामणि उपाध्‍याय, सेमरियांवा ब्‍लाक प्रमुख मुमताज अहमद व अन्‍य लोगों के साथ शंख, घण्‍टी, घण्‍ट, थाली व ताली के साथ ही ढोलक व सुरमयी धुन के साथ कोरोना वारियर्स का स्‍वागत किया। डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने कहा कि सनातन धर्म-संस्कृति में करतल ध्वनि, घंटा ध्वनि, शंख की ध्वनि  को काफी प्रभावशाली माना जाता है। इसलिए शुभ मौकों पर इसका प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेद विज्ञान के अनुसार घंटियों की आवाज कानों में पड़ने से हमारे दिमाग के बाएं और दाएं हिस्से में एक एकता पैदा करती हैं। जिस क्षण हम घंटा-घंटी बजाते हैं, यह एक तेज और स्थायी ध्वनि उत्पन्न करते हें, जो प्रतिध्वनि मोड में न्यूनतम 7 सेकंड तक रहता है। इस प्रतिध्‍वनि से हानिकारक कीटाणु और जीवाणुओं की मौत हो जाती है। इस दौरान एकेडमी की प्रबन्‍ध निदेशक सविता चतुर्वेदी ने लगातार 10 मिनट तक पूरे उत्‍साह के साथ ढोलक बजाया। सविता चतुर्वेदी ने कहा कि ढोलक की यह धुन कोरोना वारियर्स का स्‍वागत तो करेगी ही, साथ ही साथ विभिन्‍न प्रकार के हानिकारक वायसर का सफाया भी करेगी।

ढोलक बजाकर कोरोना वारियर्स का स्‍वागत करती हुई सूर्या इण्‍टनेशनल एकेडमी की निदेशक सविता चतुर्वेदी

कोरोना वारियर्स के स्‍वागत के बाद जनकल्‍याण के लिए हनुमान चालीसा पाठ

कोरोना वारियर्स के स्‍वागत के पश्‍चात जनकल्‍याण के लिए श्री हनुमान चालीसा का सस्‍वर पाठ किया गया। इस दौरान सभी लोगों ने पूरे मन से श्री हनुमान चालीसा पढ़ी तथा जनकल्‍याण के लिए भगवान श्री राम के दास श्री हनुमान जी की आराधना की। इस दौरान डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने कहा कि श्री हनुमान जी सभी लोगों का कल्‍याण करें, यही कामना है।

थाली बजाकर कोरोना वारियर्स का स्‍वागत करते हुए झारखण्‍ड से आए मजदूर

कोरोना वारियर्स के स्‍वागत की अन्‍य तस्‍वीरें …..

-----
लिंक शेयर करें