Breaking News

टीबी जांच नमूनों  के ट्रांसपोर्टेशन व डिलिवरी में सावधानी बरते डाक विभाग : अमित आनंद

–    क्षय रोग विभाग ने डाककर्मियों को किया प्रशिक्षित

–    जरुरी सावधानियों से अवगत कराया

–    जिले में शुरु हुई डाक ट्रांसपोर्टेशन की सुविधा

संतकबीरनगर, 3 जुलाई 2020 ।

राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के जिला समन्‍वयक अमित आनन्‍द ने कहा कि टीबी जांच के लिए राज्य स्तर पर क्षय रोग विभाग और डाक विभाग के बीच सैम्पल  ट्रांसपोर्टेशन को लेकर करार किया गया है। इससे एक तरफ जहां सैम्पल  जल्‍दी जांच केन्‍द्रों तक पहुंच सकेंगे, वहीं दूसरी तरफ प्राथमिकता के आधार पर उनकी जांच रिपोर्ट भी मिल जाएगी। मरीजों का समय और खर्च भी बचेगा। इसलिए यह जरुरी है कि डाक विभाग टीबी जांच के नमूनों के ट्रांसपोर्टेशन व डिलिवरी में सावधानी बरते।

यह बातें उन्‍होने जिले के डाक विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों के लिए ट्रांसपोर्टेशन व डिलिवरी संबंधित जिला क्षय रोग कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में कहीं।  उन्‍होने कहा कि सुदूर क्षेत्रों तक डाक विभाग का जाल फैला हुआ है तथा गांव गांव तक डाक विभाग की पहुंच है। इसलिए सैम्पल  ट्रांसपोर्टेशन में डाक विभाग, क्षय रोग विभाग के रीढ़ की हड्डी साबित होगा। इसके जरिए क्षय रोग विभाग का कार्य काफी आसान होगा। इस दौरान लैब टेक्‍नीशियन राजेश कुमार ने वहां पर उपस्थित डाक विभाग के कर्मचारियों को जानकारी दी कि वह किस प्रकार से टीबी सैम्पल  की पैकिंग करें तथा ट्रांसपोर्टेशन के दौरान किस तरह की सावधानियां बरतें ताकि सैम्पल  क्षतिग्रस्‍त न हों। सहायक डाक अ‍धीक्षक एस के चौधरी ने आए हुए सभी डाक कर्मियों को यह निर्देश दिया कि वे वह इस बारे में अपने डाक केन्‍द्रों पर जाकर डाकियों को भी प्रशिक्षित करें। जनपद के सभी डाककर्मियों का सहयोग विभाग को मिलता रहेगा। इस दौरान क्षय रोग विभाग के रामबास विश्‍वकर्मा, परवेज, श्‍याम यादव के साथ ही अन्‍य लोग भी उपस्थित थे।

मरीजों को मिलेगी सुविधा

इस नई व्‍यवस्‍था के लागू होने से मरीजों को भी काफी सुविधाएं मिलेंगी। मरीज अब अपने निकट के डाट्स सेण्‍टर पर जाएंगे तथा वहां पर अपना सैम्पल  दे देंगे। उस सैम्पल  को अब जिला जांच केन्‍द्र तक जाने में समय और धन खर्च नहीं करना पड़ेगा। साथ ही उनकी रिपोर्ट जल्दी मिल जाएगी। पहले सैम्पल  कोरियर के जरिए जाते थे तथा ग्रामीण क्षेत्रों में कूरियर की सुविधा नहीं है।

जिला तथा सेण्‍ट्रल लैब जाएंगे सैम्‍पल

जिला कार्यक्रम समन्‍वयक ने बताया कि रुटीन जांच के लिए आने वाले सैम्पल  जिला मुख्‍यालय पर स्थित लैब भेजे जाएंगे, वहीं टीबी मरीजों के फॉलोअप सैम्पल  वाराणसी व लखनऊ की लैब को भेजे जाएंगे। इन सैंपल  पर टीबी स्‍पुटम ट्रांसपोर्टेशन का लेबल लगा रहेगा, जिससे डाक विभाग को इसे पहचानने तथा डिलिवरी में प्राथमिकता देने में सुविधा होगी।

-----
लिंक शेयर करें