Breaking News

अगर आप डियोड्रेण्‍ट लगाते हैं तो हो जाइये सावधान

सेहत :  शरीर से आने वाली पसीने की गंधी बदबू से हर कोई दूर भागता है। इसलिए हर कोई चाहता है कि कुछ भी करके उसमें से यह बदबू न आए। इसलिए खुद को साफ-सुथरा और आकर्षक बनाए रखने के लिए आजकल हर कोई डियोड्रेंट का प्रयोग करता है। यह एक स्टाइल स्टेटमेंट ही बन चुका है। लोगों की अलमारी में इतने कपड़े नहीं होते जितने डियोड्रेंट होते हैं। डियोड्रेंट से आपका बदन तो महकने लगता है लेकिन ये अपने साथ कई बीमारियों को लेकर आता है। आइए जानते हैं इससे होने वाले नुकसानों के बारे में।


1. सांस संबंधी परेशानी
डियोड्रेंट का प्रयोग उन्हें तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए जिन्हें सांस संबंधी दिक्कतें हों जैसे कि अस्थमा की बीमारी के मरीज। यदि किसी के परिवार के एक किसी सदस्य को अस्थमा है तो उसके आसपास खड़े होकर गलती से भी डियोड्रेंट ना लगाएं।
2. कैंसर
डियोड्रेंट से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ता है। डियोड्रेंट ज्यादातर अंडरआर्म में लगाया जाता है। जिस कारण ये स्तनों को नुकसान पहुंचाता है। डियोड्रेंट के अधिक प्रयोग से त्वचा का कैंसर भी हो सकता है। कुछ लोगों को आदत होती है पूरी बॉडी पर डियोड्रेंट छिड़कने की, ऐसा करने से बचें। क्योंकि आपकी यह आदत त्वचा पर मौजूद रोम छिद्र बंद कर देती है जिससे त्वचा के कैंसर के बढ़ने का खतरा बढ़ जाता है।
3. अल्जाइमर 
डियोड्रेंट के बहुत अधिक इस्तेमाल से अल्जाइमर का खतरा बढ़ता है। दरअसल डियोड्रेंट में एल्यूमिनियम के अंश होते हैं जिस वजह से अल्जाइमर होने की संभावना होती है।
4. त्वचा पर रैशेज
इसके लगातार प्रयोग से हमें त्वचा संबंधी काफी परेशानियां हो सकती है। डियोड्रेंट में मौजूद कैमिकल सेहत के लिए बहुत हानिकारक होते हैं। ये हॉर्मोन्स के संतुलन को बिगाड़ देते हैं। इसमें मौजूद एथनॉल त्वचा को सूखा बना देता है। इस वजह से खुजली और एलर्जी हो सकती है। इसका लगातार प्रयोग करते रहने से त्वचा पर रैशेज पड़ने लग जाते है।
5. पसीना आना बंद
डियोड्रेंट पसीने को बाहर निकलने से रोकता है। डियोड्रेंट बैक्टीरिया को नष्ट करने के बजाय उसे दबा देता है। जो कि बाद में कई बीमारियों को जन्म देता है।

-----
लिंक शेयर करें