Breaking News

डीयू में काश्‍मीर की आजादी के नारे के बाद हुआ हंगामा

नई दिल्ली.डीयू के रामजस कॉलेज में सेमिनार के लिए जेएनयू स्टूडेंट उमर खालिद का इनविटेशन रद्द करने पर स्टूडेंट्स ग्रुप ABVP और AISA मेंबर्स भिड़ गए। झड़प के बाद ABVP ने एक वीडियो जारी किया है। जिसमें यूनिवर्सिटी के कुछ स्टूडेंट्स कश्मीर और बस्तर की आजादी के नारे लगाते दिख रहे हैं। बता दें कि बुधवार को हुई झड़प में कई स्टूडेंट, टीचर्स और पुलिसवाले जख्मी हुए थे। दिल्ली पुलिस ने कुछ स्टूडेंट्स के खिलाफ दंगा भड़काने का मामला दर्ज किया है।

क्‍या है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का कहना

 बीजेपी स्टूडेंट विंग (एबीवीपी) के मीडिया को-ऑर्डिनेटर साकेत बहुगुणा ने कहा, ”हमने वीडियो जारी किया है। डीयू में ऐसी देश विरोधी हरकतें बर्दाश्त नहीं की जाएंगी। ये वीडियो मंगलवार का है। जेएनयू में देश विरोधी नारेबाजी के आरोपी उमर खालिद को कॉलेज में एंट्री देने से इनकार करने पर कम्युनिस्ट टीचर्स और स्टूडेंट्स ने कश्मीर और बस्तर की आजादी के नारे लगाए। इस तरह का मामला पहली बार डीयू में सामने आया है।”
वीडियो में क्या है?
करीब 25 सेकंड के इस वीडियो में डीयू के कुछ स्टूडेंट्स कश्मीर मांगे…आजादी, बस्तर मांगे…आजादी के नारे लगाते दिख रहे हैं।स्टूडेंट्स ग्रुप ने अपनी आजादी के सपोर्ट में इंकलाब और दूसरे ऑर्गेनाइजेशन के खिलाफ भी नारेबाजी की।
लेफ्ट स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशंस का विरोध
डीयू में हुई झड़प के बाद गुरुवार को लेफ्ट स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइजेशंस ने पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर प्रोटेस्ट किया।स्टूडेंट्स की मांग है कि पुलिस ABVP के खिलाफ केस दर्ज करे और हंगामा करने वाले मेंबर्स को अरेस्ट किया जाए।दिल्ली पुलिस के उन अफसरों को सस्पेंड किया जाए, जो डीयू में खड़े होकर ABVP की हिंसा को देख रहे थे। इस विरोध में जेएनयू स्टूडेंट लीडर उमर खालिद भी शामिल हुआ।
पुलिस ने केस दर्ज किया
बुधवार को डीयू में हुई झड़प को लेकर पुलिस ने कुछ स्टूडेंट्स के खिलाफ दंगा भड़काने और पुलिस पर हमले का केस दर्ज किया।पुलिस के एक सीनियर अफसर ने बताया कि ABVP और AISA की तरफ से भी शिकायतें मिली थीं। इस घटना में मौरिस नगर थाना इंचार्ज आरती शर्मा समेत 7 पुलिसवाले जख्मी हो गए थे।
क्या है मामला?
दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में पिछले दिनों ‘कल्चर्स ऑफ प्रोटेस्ट’ पर सेमिनार होना था। इसमें उमर खालिद और शेहला राशिद को बुलाया गया। जेएनयू के स्टूडेंट्स को बुलाने पर एबीवीपी ने शांतिपूर्ण तरीके से विरोध का एलान किया था। आरोप है कि इस दौरान पथराव हो गया। विरोध के चलते खालिद और शेहला का इनविटेशन रद्द कर दिया गया।बुधवार को कुछ स्टूडेंट्स और टीचर्स ने सेमिनार में अड़ंगा डालने वाले ABVP मेंबर्स के खिलाफ एक्शन की मांग करते हुए मार्च निकालने की कोशिश की। एबीवीपी मेंबर्स ने मार्च को आगे नहीं बढ़ने दिया और स्टूडेंट्स-टीचर्स को कथित तौर पर रामजस कॉलेज के अंदर बंद कर दिया। फिर आइसा से जुड़े स्टूडेंट्स ने बंधकों को छुड़ाने के लिए कैंपस में घुसने की कोशिश की। इसी दौरान दोनों गुटों में हिंसक झड़प हुई।
पिछले साल JNU में हुई थी नारेबाजी
9 फरवरी 2016 को जेएनयू में लेफ्ट स्टूडेंट्स के ग्रुप्स ने संसद पर हमले के गुनहगार अफजल गुरु और जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के को-फाउंडर मकबूल भट की याद में एक प्रोग्राम ऑर्गनाइज किया था। इसे कल्चरल इवेंट का नाम दिया गया था।साबरमती हॉस्टल के सामने शाम 5 बजे उसी प्रोग्राम में कुछ लोगों ने देश विरोधी नारेबाजी की। इसके बाद लेफ्ट और एबीवीपी स्टूडेंट्स के बीच झड़प हुई।10 फरवरी को नारेबाजी का वीडियो सामने आया। दिल्ली पुलिस ने 12 फरवरी को देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया। इसके बाद जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन के प्रेसिडेंट कन्हैया कुमार, खालिद समेत तीन स्टूडेंट्स की गिरफ्तारी हुई थी।

-----
लिंक शेयर करें