Breaking News

दहेज लोभी ने तोड़ी शादी, उसी मण्‍डप में दूसरे ने कर लिया विवाह

रावतसर. (हनुमानगढ़).शादी के दौरान ही एक दूल्हा दहेज में 11 लाख रुपए और एक लग्जरी कार के लिए अड़ गया। इससे नाराज दुल्हन ने दहेज लोभी लड़के से शादी करने से इनकार कर दिया। यह देख दूसरा लड़का बिना दहेेज के शादी के लिए तैयार हो गया और उसी मंडप में दुल्हन का हाथ थाम विदा करवा कर ले गया।
रेणु कासनियां की शादी हरियाणा के सिरसा जिले के गांव निरवाणा निवासी राजवीर कस्वां के बेटे पवन कस्वां से 19 फरवरी की रात को होने वाली थी। 18 फरवरी की रात पवन ने फोन पर रेणु से कहा कि उसे शादी में 11 लाख रुपए नकदी और एक लग्जरी गाड़ी ससुराल से गिफ्ट चाहिए। उस रात रेणु ने इसे मजाक समझकर टाल दिया। अगली सुबह 19 फरवरी को फिर पवन ने रेणु के सामने अपनी डिमांड रखी और नहीं देने पर बारात नहीं लाने की धमकी दी। रेणु ने फोन पर हुई बात की जानकारी अपने पिता राजेंद्र कासनियां और मां को दी।
 परिजनों ने रिश्ता करवाने वाले मध्यस्थ से संपर्क कर इस बारे में बताया। मध्यस्थ ने लड़के पवन अौर उसके पिता से संपर्क कर पंचायत बुलाई। करते करते 19 फरवरी की रात हो गई। मुहूर्त के हिसाब से अब बारात दुल्हन के दरवाजे पर आने का समय हो चला था। वर पक्ष ने अपनी डिमांड नहीं छोड़ी तो दुल्हन रेणु ने साहसिक निर्णय लेते हुए दहेज लोभी दूल्हे पवन से शादी करने से इनकार कर दिया। यह वाकया सुन दुल्हन रेणु के घर में रिश्तेदार और परिजन जुटने लगे थे।
दोनों के बीच 5 मिनट की मुलाकात, बिना दहेज के हुई शादी
शादी मे तलवाड़ा थाना के कांस्टेबल कपिल घिंटाला अपने बेटे इंजीनियर राकेश के साथ शामिल होने पहुंचे थे। शादी वाले घर में सारा माजरा देखकर उनके बेटे ने रेणु से शादी का प्रस्ताव दिया। बात रेणु तक पहुंची। दोनों को वहीं एक दूसरे से मिलवाया गया। पांच मिनट की औपचारिक मुलाकात के बाद दोनों शादी के लिए राजी हो गए। रात दो बजे राकेश गाजे बाजे के साथ बारात लेकर दुल्हन रेणु के घर पहुंचा और शादी हो गई।
आशीर्वाद देने के लिए आया पूरा शहर
दुल्हन के पिता राजेंद्र के पास उनकी बेटी के दहेज लोभियों के खिलाफ उठ खड़े होने पर बधाई देने वाले पहुंच रहे हैं। लोग इस बहादुर बेटी की प्रशंसा करते नहीं थकते। दुल्हन के पिता बताते हैं कि उनकी बेटी इतना साहसिक कदम उठा लेगी इस बात का उनको भी पता नहीं था। नए दुल्हे राकेश ने बताया कि वह अपनी पत्नी के विचारों से प्रभावित है और इसीलिए शादी का प्रस्ताव दिया था। हम दोनों के विचार मिलते हैं। मुझे दहेज नहीं बल्कि अच्छे विचारों वाला जीवन साथी चाहिए था। मेरी इच्छा रेणु के रूप में पूरी हुई है।

-----
लिंक शेयर करें